दलित महिला ने पी लिया था टंकी से पानी, उच्च जाति के लोगों ने शुद्धिकरण के नाम पर टैंक को गौमूत्र से धोया

कर्नाटक के चामराजनगर जिले में दलित महिला के नल से पानी पीने के बाद तथाकथित उच्च जाति के लोगों ने टंकी से पानी निकाल दिया। फिर शुद्धीकरण के नाम पर नल को खोलकर उसे गौमूत्र से धोया।

Updated: Nov 21, 2022, 02:06 PM IST

दलित महिला ने पी लिया था टंकी से पानी, उच्च जाति के लोगों ने शुद्धिकरण के नाम पर टैंक को गौमूत्र से धोया

बेंगलुरु। कर्नाटक के चामराजनगर जिले से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां दलित महिला ने एक सार्वजनिक टंकी के नल से पानी पी लिया था। इसके बाद तथाकथित उच्च जाति के लोगों ने टंकी से पानी निकाल दिया और फिर शुद्धीकरण के नाम पर उसे गौमूत्र से धोया।

मामला कर्नाटक के चामराजनगर जिले के हेगगोतारा गांव का है। बीते 18 नवंबर को महिला यहां एक विवाह समारोह में शामिल होने आई थी। इस दौरान महिला ने एक ऐसे क्षेत्र में पीने के पानी की टंकी से पानी पिया, जहां तथाकथित उच्च जाति के लोग रहते हैं। 

बताया जा रहा है कि वहां मौजूद लोगों ने जब यह सब देखा तो उन्होंने तुरंत महिला को वहां से हटाया। फिर शुद्धीकरण के नाम पर नल को खोलकर उसे गौमूत्र से धोया। यहां तक कि टंकी का पूरा पानी भी बहा दिया गया और उसे भी साफ किया गया।

यह भी पढ़ें: सावरकर पर असहमति के बीच संजय राउत ने की राहुल गांधी की तारीफ़, कहा- सेहत का हाल तो पूछा

स्थानीय तहसीलदार आईई बासवराज ने मीडिया को बताया कि पानी की टंकी को साफ किया गया था, लेकिन मैं गौमूत्र से साफ करने की बात की पुष्टि नहीं करता हूं। घटना की जांच और इस घटना में शामिल लोगों के बारे में पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। अगर कुछ पता चलता है तो भेदभाव का मामला दर्ज करेंगे।

स्थानीय अधिकारी ने बताया कि गांव में कई टैंक हैं, जिससे हर कोई वहां से पानी पी सकता है। स्थानीय अधिकारियों ने दलित और अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) समुदायों के कई ग्रामीणों को सभी टैंकों में ले जाकर पानी भी पिलाया। उन्होंने कहा कि तहसीलदार अब आगे की कार्रवाई के लिए विस्तृत रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंपेंगे।