हिमाचल में भारी बारिश से तबाही, हिमाचल को पंजाब से जोड़ने वाला रेलवे पुल टूटा, कई जगहों पर भूस्खलन

पंजाब से हिमाचल को जोड़ने वाला ये एकमात्र रेलवे ट्रैक है, जिसे मौजूदा सरकार ने चौड़ीकरण करवाने को लेकर कई बार हवाई सर्वे करवाए और बाद में इसे ऐतिहासिक धरोहर डिक्लेयर करते हुए इसे अपने हाल पर छोड़ दिया।

Updated: Aug 20, 2022, 02:09 PM IST

हिमाचल में भारी बारिश से तबाही, हिमाचल को पंजाब से जोड़ने वाला रेलवे पुल टूटा, कई जगहों पर भूस्खलन

कांगड़ा। भारतीय रेलवे लाइन की ऐतिहासिक धरोहर पठानकोट-कांगड़ा जोगेंद्रनगर रेलवे ट्रैक एक बार फिर से ठप हो गया है। दरअसल भारी बरसात के कारण चक्की के पास एक रेलवे पुल बाढ़ की भेंट चढ़ गया। यह चक्की पुल बेहद पुराना और पंजाब से हिमाचल तक रेलवे ट्रैक को जोड़ने वाला एकमात्र पुल था। 

पंजाब की ओर से पहले से ही क्षतिग्रस्त हिस्सा अब पूरी तरह से बाढ़ की चपेट में आकर बह गया है। इससे पहले भी इस पुल पर कई बार चक्की खड्ड का पानी ओवरफ्लो होता रहा है, लेकिन वक़्त रहते इस पुल की सुध नहीं ली गई। अब बीते 24 घंटों से जारी भारी बरसात के कारण आज ये पुल बाढ़ की भेंट ही चढ़ गया। राज्य सरकार ने इस पुल को चौड़ीकरण करवाने को लेकर कई बार हवाई सर्वे करवाए और बाद में इसे ऐतिहासिक धरोहर डिक्लेयर करते हुए इसे अपने हाल पर छोड़ दिया।

हिमाचल में भारी बारिश ने भयंकर तबाही मचाई है। नदी नाले उफान पर हैं। बारिश के कारण चार हाइवे और 300 से ज्यादा सड़कों पर आवागमन ठप हो गया है। मंडी और चंबा जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। पिछले 24 घंटों में चंबा के भटियात में तीन, मंडी में 4 और कांगड़ा के शाहपुर में मकान गिरने से 9 साल की बच्ची की मौत हो गई। मंडी के गोहर में पहाड़ी धंसने से काशन पंचायत के जड़ोंन गांव में एक ही परिवार के 8 सदस्य इसकी चपेट में आ गए। एक महिला व 2 बच्चों के शव बरामद कर लिए गए हैं, जबकि 5 लोग अभी भी मलबे में दबे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: देहरादून में फटा बादल, नदी नाले उफान पर, टपकेश्वर में बाढ़ जैसे हालात, SDRF ने संभाला मोर्चा

मंडी के कटौला के बागी नाला में बाढ़ में एक गाड़ी और इसमें सवार छह लोग बह गए। 15 साल की लड़की का शव बरामद कर लिया गया है, जबकि अन्य की तलाश जारी है। उधर, चंबा जिला में चुवाड़ी के बनेट गांव में भूस्खलन के बाद तीन लोग लापता हो गए। राज्य के कई क्षेत्र ऐसे हैं, जहां से अभी सूचना नहीं मिल पा रही है। शाम तक जानमाल का नुकसान और बढ़ने का अनुमान है।

हिमाचल प्रदेश के आपदा प्रबंधन विभाग ने 25 अगस्त तक राज्य में भारी बारिश के पूर्वानुमान के कारण भूस्खलन की चेतावनी जारी की है। राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के निदेशक सुदेश कुमार मोख्ता ने बताया कि कांगड़ा, चंबा, मंडी, कुल्लू, शिमला, सिरमौर, सोलन, हमीरपुर, ऊना और बिलासपुर जिलों में अगले तीन-चार दिनों तक बारिश का दौर जारी रहने और कुछ हिस्सों में भारी वर्षा होने का अनुमान है।