Gujarat: नोटबंदी के चार साल बाद पौने 5 करोड़ के पुराने नोट बरामद

Demonetization in India: गुजरात एटीएस ने दो लोगों को किया गिरफ्तार, मुख्य आरोपी फरार

Updated: Jul 30, 2020 07:34 PM IST

Gujarat: नोटबंदी के चार साल बाद पौने 5 करोड़ के पुराने नोट बरामद
Pic: India Today

अहमदाबाद। गुजरात के गोधरा शहर में चार करोड़ 76 लाख रुपये मूल्य के पुराने नोट बरामद किए गए हैं, जिन्हें नोटबंदी के समय कानूनी तौर पर चलन से बाहर कर दिया गया था। इस संबंध में दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया जबकि मुख्य आरोपी भाग गया है। 

गुजरात के आतंक रोधी दस्ते (एटीएस) की ओर से जारी बयान के मुताबिक गोधरा पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) द्वारा 28 जुलाई की रात छापा मार कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। एटीएस को इस संबंध में गोपनीय सूचना प्राप्त हुई थी। छापे के दौरान पुलिस ने जुबेर हयात और फारूख छोटा नामक व्यक्तियों को गिरफ्तार किया। वहीं मुख्य आरोपी इदरीस हयात भागने में कामयाब हो गया।

बंद कर दिए गए नोटों के अवैध लेनदेन में कुछ लोगों के शामिल होने की सूचना मिलने पर गोधरा एसओजी ने पहले मेड सर्किल स्थित एक स्थान पर छापा मारा और छोटा के पास से एक हजार रुपये के नोटों के पांच बंडल बरामद किए। एटीएस ने बताया कि उससे पूछताछ के बाद एसओजी दल गोधरा के धंत्या प्लॉट क्षेत्र में पहुंचा और एक घर और कार में पुराने नोटों के कई बंडल बरामद किए। घर का मालिक इदरीस भागने में कामयाब रहा और उसके बेटे जुबेर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने एक हजार के 9,312 नोट और पांच सौ के 76,739 नोट बरामद किए जिनका कुल मूल्य 4,76,81,500 रुपये है।

पंचमहल की पुलिस अधीक्षक लीना पाटिल ने कहा, “इदरीस हयात पर पहले भी ऐसे मामले दर्ज हैं और वह दो साल से फरार है। गोधरा एसओजी आगे जांच करेगी कि आरोपी इन नोटों की जरिए क्या करना चाहते थे।”