वैश्विक लिंग भेद अनुपात में 28 पायदान नीचे खिसका भारत, 156 देशों में 140वें स्थान पर पहुंचा

दक्षिण एशिया में भारत तीसरा सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला देश है, बांग्लादेश, भूटान और श्रीलंका से पीछे है भारत

Updated: Mar 31, 2021, 06:26 PM IST

वैश्विक लिंग भेद अनुपात में 28 पायदान नीचे खिसका भारत, 156 देशों में 140वें स्थान पर पहुंचा

नई दिल्ली। ग्लोबल जेंडर गैप इंडेक्स यानी वैश्विक लिंग भेद अनुपात में भारत 28 पायदान नीचे खिसक गया है। 156 देशों में भारत 140वें स्थान पर है। पिछले वर्ष 153 देशों में भारत 112वें स्थान पर था। लेकिन इस मर्तबा दक्षिण एशिआई देशों में भारत तीसरा सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला देश है। बांग्लादेश, भूटान और श्रीलंका जैसे देश भारत से आगे हैं। इन देशों में भारत के मुकाबले लैंगिक समानता अधिक है। 

बांग्लादेश को जेंडर गैप में 65वां स्थान मिला है। जबकि नेपाल 106, श्रीलंका 116 और भूटान 130वें पायदान पर है। हालांकि भारत के मुकाबले पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान जैसे देशों का प्रदर्शन खराब है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम द्वारा जारी इस सूचांक में पकिस्तान 153वें जबकि अफ़ग़ानिस्तान 156वें स्थान पर है। 

महिलाओं के राजनीतिक सशक्तिकरण में आई कमी 
रिपोर्ट के अनुसार भारत में महिलाओं की आर्थिक भागीदारी और अवसर की सूची में गिरावट आई है। इस क्षेत्र में लैंगिक भेद अनुपात तीन प्रतिशत और बढ़कर 32.6 प्रतिशत पर पहुंच गया है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की इस वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले एक वर्ष में भारत में महिलाओं के राजनीतिक सशक्तिकरण में कमी आई है। आसान शब्दों में, भारत में महिलाओं की राजनीतिक भागीदारी में गिरावट आई है। रिपोर्ट के मुताबिक 2019 में भारत में महिला मंत्रियों की संख्या 23.1 प्रतिशत थी। जबकि अब यह लगभग 14 फीसदी घटकर केवल 9.1 फीसदी रह गई है। राजनीति के साथ साथ महिलाओं की आर्थिक भागीदारी भी भारत में पहले के मुकाबले घटी  है। 

महिला श्रम बल भागीदारी दर 24.8 प्रतिशत से गिर कर 22.3 प्रतिशत रह गयी है। इसके साथ ही पेशेवर और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में महिलाओं की भूमिका भी घटकर 29.2 प्रतिशत हो गई है। इसके अलावा भारत की कंपनियों में वरिष्ठ पदों पर महिलाएं केवल 14.6 फीसदी ही हैं। जबकि प्रबंधक पदों का हाल और भी बुरा है। भारत में केवल 8.9 फीसदी महिलाएं ही प्रबंधक के पदों पर काबिज़ हैं।

यह भी पढ़ें :तमिलनाडु में बीजेपी की किरकिरी, कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की बहू की तस्वीर से प्रचार कर रही है बीजेपी

लैंगिक समानता में सबसे अव्वल आइसलैंड है। वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की रिपोर्ट में लगातार बारहवीं बार आइसलैंड को सर्वोच्च स्थान मिला है। आइसलैंड के अलावा फ़िनलैंड, नॉर्वे, न्यूज़ीलैंड, रवांडा, स्वीडन, आयरलैंड और स्विट्ज़रलैंड जैसे देश टॉप के देशों में शामिल हैं।