सिद्धू मूसेवाला की हत्या के कनाडा से जुड़े तार, लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गोल्डी बरार ने ली जिम्मेदारी

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के साथी और कनाडा में बैठे गोल्डी बराड़ ने ली सिद्धू मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी, DGP वीके भावरा के मुताबिक हादसे के दौरान गनमैन और बुलेटप्रूफ गाड़ी नहीं ले गए थे सिद्धू

Updated: May 30, 2022, 01:22 AM IST

सिद्धू मूसेवाला की हत्या के कनाडा से जुड़े तार, लॉरेंस बिश्नोई गैंग के गोल्डी बरार ने ली जिम्मेदारी

मानसा। पंजाब के मशहूर सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। बताया जा रहा है कि इस हत्याकांड के पीछे कुख्यात अंतरराष्ट्रीय गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का हाथ है। पंजाब के डीजीपी वीके भावरा ने भी इस बात की पुष्टि की है। डीजीपी ने बताया कि गिरोह के सदस्य लकी ने कनाडा से घटना की जिम्मेदारी ली है।

गोल्डी बराड़ नामक एक फेसबुक आईडी से इस घटना की जिम्मेदारी लेते हुए पोस्ट भी शेयर किया गया है। 28 वर्षीय मूसेवाला का 11 जून को 29वां जन्मदिन था। इससे 12 दिन पहले ही उनका मर्डर कर दिया।
सिद्धू मूसेवाला साथियों के साथ गाड़ी से जा रहे थे। उसी दौरान काले रंग की गाड़ी में सवार हमलावरों ने उन पर फायरिंग की। घर से करीब 5 किमी दूर ही मूसेवाला को गोलियां मार दी गई। मूसेवाला खुद थार जीप चला रहे थे। उन पर करीब 30 फायर किए गए। फायरिंग इतनी ताबड़तोड़ हुई कि मूसेवाला अपनी सीट से हिल तक नहीं सके। 

सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद हमलावर अपनी गाड़ियों को रास्ते में ही छोड़कर भाग गए। पुलिस ने दो गाड़ियां बरामद की हैं, इनमें एक टोयोटा कोरोला और दूसरी बोलेरो है। दोनों गाड़ियों के नंबर दिल्ली के हैं। यह भी पता चला है कि हमलावरों ने इसके बाद एक ऑल्टो गाड़ी को गन पॉइंट पर लूटा और उसमें सवार होकर भाग गए। इसके बाद पंजाब पुलिस ने सीमावर्ती राज्यों के पुलिस को अलर्ट किया है। वहीं पुलिस ने इस मामले में 4-5 संदिग्ध लोगों को उठाया है। साथ ही SIT गठित कर जांच शुरू कर दी है। 

राज्य की आप सरकार पर उठ रहे सवालों का पंजाब डीजीपी ने बचाव किया है। डीजीपी ने कहा कि मूसेवाला के पास पंजाब पुलिस के 4 कमांडो थे, जिनमें से 2 को वापस ले लिया गया था। रविवार को उनके पास दो कमांडो थे जिन्हें मूसेवाला अपने साथ नहीं ले गए थे। उनके पास एक निजी बुलेटप्रूफ कार भी थी, लेकिन उसे भी वह अपने साथ नहीं ले गए थे। मौके से बरामद कारतूस से लगता है कि 3 अलग-अलग हथियारों का इस्तेमाल हुआ है।

बता दें कि सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा शनिवार को ही पंजाब सरकार ने वापस ली थी। सीएम भगवंत मान ने कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए शनिवार को 424 VIP की सुरक्षा तत्काल प्रभाव से वापस ले ली थी। इनमें से मूसेवाला भी एक थे। पुलिस को आशंका है कि मूसेवाला की हत्या विक्की मिड्‌डूखेड़ा के कत्ल का बदला लेने के लिए की गई है। गैंगस्टर बिश्नोई के साथी रहे मिड्‌डूखेड़ा का मोहाली में कत्ल कर दिया गया था। इसमें कथित रूप से सिद्धू मूसेवाला के मैनेजर का नाम सामने आया था। बता दें कि सिद्धू मूसेवाला ने पंजाब विधानसभा चुनाव में मानसा सीट से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा था, ऐसे में आप सरकार की भूमिका को भी संदिग्ध माना जा रहा है।