गुजरात में बड़ा हादसा: केबल पुल टूटने से नदी में गिरे सैंकड़ों लोग, अबतक 141 लोगों की मौत

चार दिन पहले ही रेनोवेशन के बाद खोला गया था पुल, 2 करोड़ रुपए की लागत से किया गया था मरम्मत, कई दर्जन लोगों के अभी भी पानी में फंसे होने की आशंका

Updated: Oct 31, 2022, 11:29 AM IST

गुजरात में बड़ा हादसा: केबल पुल टूटने से नदी में गिरे सैंकड़ों लोग, अबतक 141 लोगों की मौत

मोरबी। गुजरात के मोरबी जिले में रविवार शाम बड़ा हादसा हो गया। यहां मच्छु नदी पर बना केबल ब्रिज अचानक टूट गया  हादसे के वक्त ब्रिज पर करीब 500 लोग थे, जिसमें 300 से अधिक लोग नदी में गिर गए। हादसे में अबतक 141 लोगों के मौत की खबर है। मृतकों में 30 से अधिक बच्चे शामिल हैं। कई दर्जन लोगों के अभी भी पानी में फंसे होने की आशंका है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक रविवार शाम करीब 6.30 बजे यह हादसा हुआ। यह पुल पिछले 6 महीने से बंद था। हाल ही में करीब 2 करोड़ रुपए की लागत से इसके मरम्मत का काम पूरा किया गया था। दिवाली के एक दिन बाद यानी 25 अक्टूबर को इसे आम लोगों के लिए खोला गया था। स्थानीय लोगों के मुताबिक रेनोवेशन कार्य में जमकर भ्रष्टाचार हुआ।

यह भी पढ़ें: गुजरात फतह के लिए कांग्रेस कल से शुरू करेगी परिवर्तन संकल्प यात्रा, दिग्विजय, गहलोत समेत इन दिग्गजों को मिला कमान

राहुल गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं से लापता लोगों को ढूंढने में हर संभव मदद करने की अपील की है। उन्होंने ट्वीट किया, 'गुजरात के मोरबी में हुए पुल हादसे की खबर बेहद दुःखद है। ऐसे मुश्किल समय में मैं सभी शोकाकुल परिवारों को अपनी गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूं। सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि दुर्घटना में घायल व्यक्तियों की हर संभव सहायता करें और लापता लोगों की तलाश में मदद करें।'

बताया जा रहा है कि पुल की क्षमता 100 लोगों की थी। लेकिन लंबे वक्त बाद पुल खुलने के कारण रविवार को बड़ी तादाद में लोग अपने परिजनों के साथ पुल पर तस्वीरें के लिए पहुंचे थे। हादसे के वक्त करीब 500 लोग पुल पर मौजूद थे। यह पुल अंग्रेजों के जमाने की बनी हुई थी। ब्रिज का उद्घाटन 20 फरवरी 1879 को मुंबई के गवर्नर रिचर्ड टेम्पल ने किया था। यह उस समय लगभग 3.5 लाख की लागत से 1880 में बनकर तैयार हुआ था। बताया जाता है कि पुल को बनाने का पूरा सामान इंग्लैंड से ही मंगाया गया था।

हालांकि, इसके बाद इस पुल का कई बार रेनोवेशन किया जा चुका है। रेनोवेशन में बड़े स्तर पर अनिमितताएं बरती गई। गुजरात सरकार ने इस हादसे की जिम्मेदारी ली है। गुजरात सरकार के मंत्री बृजेश मेरजा ने कहा कि हम इस हादसे की जिम्मेदारी लेते हैं। इस ब्रीज की पिछले ही सप्ताह मरम्मत की गई थी. हम हैरान हैं कि ये हादसा कैसे हो गया। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि, '5 दिन पहले ही उसकी मरम्मत का काम पूरा हुआ था। सरकार को ज़िम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्यवाही करना चाहिए। जिनकी मृत्यु हुई है उनके प्रति हम संवेदनाएँ व्यक्त करते हैं। घायलों को उपचार व बचाव की पूरी व्यवस्था होनी चाहिए।'

बहरहाल, हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने दुख जताया है। पीएम मोदी CM भूपेंद्र पटेल से घटना की जानकारी ली और मृतकों के आश्रितों को दो लाख और घायलों को 50 हजार रुपए की सहायता देने का ऐलान किया है। CM भूपेंद्र पटेल ने बताया कि राहत और बचाव कार्य जारी है।