दिल्ली में यूथ कांग्रेस का व्यापक प्रदर्शन, शिवाजी ब्रिज पर रोकी ट्रेन, कनॉट प्लेस इलाके में सड़कों पर बैठे

अग्निपथ योजना के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों को मिला यूथ कांग्रेस का साथ, दिल्ली में तमाम सख्तियों के बावजूद शिवाजी ब्रिज रेलवे स्टेशन पर रोकी ट्रेन, कनॉट प्लेस इलाके में सड़कों पर बैठे, पुलिस की बर्बर कार्रवाई में कई घायल

Updated: Jun 20, 2022, 02:03 PM IST

दिल्ली में यूथ कांग्रेस का व्यापक प्रदर्शन, शिवाजी ब्रिज पर रोकी ट्रेन, कनॉट प्लेस इलाके में सड़कों पर बैठे

नई दिल्ली। अग्निपथ योजना के खिलाफ आज युवाओं द्वारा भारत बंद के आह्वान का देशभर में व्यापक असर दिख रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में सघन जांच पड़ताल के कारण ट्रैफिक व्यवस्था चरमरा गई है। बॉर्डर्स पर भयानक जाम लगी हुई है। दिल्ली पुलिस एक भी प्रदर्शनकारी को राजधानी के भीतर नहीं घुसने दे रही है। हालांकि, तमाम सख्तियों के बावजूद दोपहर में यूथ कांग्रेस ने राजधानी के सबसे पॉश इलाकों में व्यापक विरोध प्रदर्शन किया।

यूथ कांग्रेस के सैंकड़ों कार्यकर्ता हाथों में तख्तियां लेकर नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के नजदीकी शिवाजी ब्रिज रेलवे स्टेशन पहुंचे। यहां उन्होंने ट्रेनों का परिचालन ठप कर दिया। युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता पटरियों पर लेट गए। जिस ट्रेन को रोका गया वह श्रीगंगानगर (राजस्थान) जा रही थी। बाद में पुलिस ने बलप्रयोग कर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को वहां से हटाकर दिया। पुलिस के बर्बर कार्रवाई में कई कार्यकर्ता घायल भी हुए हैं।

शिवाजी ब्रिज स्टेशन से पुलिस कई युवा कांग्रेस कार्यकर्ता गिरफ्तार कर ले गई है। उधर राजधानी के सबसे पॉश माने जाने वाले कनॉट प्लेस इलाके में भी युवा कांग्रेस का प्रदर्शन जारी है। वहां यूथ कांग्रेस के सैंकड़ों कार्यकर्ता सड़कों पर जाकर बैठ गए। सीपी के आउटर सर्किल से पुलिस इन्हें हटाने की कोशिश कर रही है। लेकिन वे विवादास्पद अग्निपथ कानून को वापस लेने संबंधी नारेबाजी कर रहे हैं।

इस पूरे घटनाक्रम को लेकर कांग्रेस के राज्यसभा सांसद दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि जिस तरह से हमें शांतिपूर्ण प्रदर्शन की भी इजाजत नहीं मिल रही है, इससे दुर्भाग्यपूर्ण बात नहीं हो सकती। हमारी मांग है कि अग्निपथ योजना वापस हो और केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरूपयोग बंद हो।

मामले पर लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि, 'हम चाहते हैं कि देश के नौजवानों के साथ खिलवाड़ ना हो। क्यों लोगों को गुमराह करने की कोशिश की जा रही है? आप बोल दो की हम सैलेरी और पेंशन नहीं दे सकते... आप हम सब को बुलाइए, हम आपको सुझाव देंगे क्योंकि ये फौज मोदी जी की नहीं बल्कि हिंदुस्तान की है।'

भारत बंद का 500 से अधिक ट्रेनों पर असर पड़ा है। रेल मंत्रालय ने सोमवार को कहा है कि अग्निपथ योजना को लेकर आंदोलन के कारण 181 मेल एक्सप्रेस रद्द और 348 यात्री ट्रेनें रद्द कर दी गईं। 4 मेल एक्सप्रेस और 6 पैसेंजर ट्रेनें आंशिक रूप से रद्द हैं। हालांकि इस दौरान किसी भी ट्रेन को डायवर्ट नहीं किया गया है।