शरद पवार की अध्यक्षता में आज होगी गैर बीजेपी दलों की बैठक, अगले चुनावों पर संयुक्त लड़ाई की क़वायद

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की रविवार को एनसीपी चीफ शरद पवार से दिल्ली में मुलाकात के बाद राष्ट्र मंच और अन्य नेताओं को भेजा गया मीटिंग का न्योता

Updated: Jun 22, 2021, 09:43 AM IST

शरद पवार की अध्यक्षता में आज होगी गैर बीजेपी दलों की बैठक, अगले चुनावों पर संयुक्त लड़ाई की क़वायद

नई दिल्ली। देश के सियासी गलियारों से एक बड़ी खबर सामने आई है। एनसीपी चीफ शरद पवार की अध्यक्षता में आज गैर-बीजेपी विपक्षी दलों की बैठक होगी। इस बैठक को साल 2024 लोकसभा चुनाव के मद्देनजर संयुक्त तीसरा मोर्चा मजबूत करने की कोशिशों के तौर पर देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि इस पूरे बैठक के आयोजन के पीछे राजनैतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर का हाथ है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक बैठक मंगलवार को शाम 4 बजे एनसीपी चीफ शरद पवार के दिल्ली स्थित आवास पर होगी। इस बैठक में टीएमसी उपाध्यक्ष यशवंत सिन्हा समेत गैर बीजेपी दलों के कई दिग्गज नेता शामिल होंगे। आम आदमी पार्टी के संजय सिह, आरजेडी के मनोज झा और कांग्रेस के कपिल सिब्बल को इसके लिए आमंत्रित किया गया है। इस दौरान रणनीतिकार प्रशांत किशोर भी मौजूद रह सकते हैं।

यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश को साधने में जुटी कांग्रेस, प्रियंका गांधी ने 50 नेताओं को फोन कर कहा, आपका टिकट कन्फर्म है

ममता की जीत के बाद पीके का बढ़ा कॉन्फिडेंस

दरअसल, तीसरे मोर्चे की सुगबुगाहट पश्चिम बंगाल चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद शुरू हुई है। सीएम ममता ने प्रचंड बहुमत के साथ तीसरी बार सत्ता में वापसी कर साबित कर दिया है कि बीजेपी और उसकी अजेय मानी जाने वाली 'चुनावी मशीनरी' को पछाड़ना मुमकिन है। प्रशांत किशोर, पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी के 'रणनीतिकार' थे और इस कठिन 'लड़ाई' में तृणमूल कांग्रेस को जीत दिलाने का श्रेय उन्हीं को जाता है। ऐसे में अब पीके का कॉन्फिडेंस बढ़ गया है और वे अब पीएम मोदी को चुनौती देने के लिए सभी दलों को एक साथ लाने का प्रयास कर रहे हैं। 

नरेंद्र मोदी से लेकर ममता बनर्जी तक अनेक राजनैतिक कैंपेन की कमान संभाल चुके प्रशांत किशोर ने रविवार को दोबारा शरद पवार से मुलाकात की है। पवार से इसबार उनकी मुलाकात दिल्ली में हुई। माना जा रहा है कि बीते दो हफ्तों में पवार और किशोर की दो मुलाकातों के बाद ही यह प्रयास उभरकर सामने आया है। दोनों की मुलाकात के बाद ही इस बात की चर्चाएं जोर पकड़ने लगी थीं कि पीएम मोदी को चुनौती देने के लिए वे विपक्ष को एकजुट करने को लेकर मंथन कर रहे हैं।