महामहिम के प्रोटोकॉल ने ली दो निर्दोषों की जान, काफिले ने 3 साल की बच्ची को रौंदा, जाम में फंसकर मरी महिला

गृहनगर कानपुर पहुंचे रामनाथ कोविंद, राष्ट्रपति की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ के काफिले ने 3 साल की बच्ची को कुचला, ट्रैफिक व्यवस्था रोकने के कारण कार में ही बीमार महिला की मौत

Updated: Jun 26, 2021, 05:48 PM IST

महामहिम के प्रोटोकॉल ने ली दो निर्दोषों की जान, काफिले ने 3 साल की बच्ची को रौंदा, जाम में फंसकर मरी महिला
Photo Courtsey : ABP

कानपुर। भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपने गृहनगर कानपुर दौरे पर हैं। राष्ट्रपति के कानपुर आने से पूर्व से ही जिले की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई थी। कानपुर में महामहिम के प्रोटोकॉल का उल्लंघन न हो इस बात का खासा ध्यान रखा जा रहा है। इसी बीच खबर आई है कि इस प्रोटोकॉल ने दो निर्दोषों की जान ले ली है। पहली मौत एक 3 साल की मासूम की हुई है, जिसे CRPF के काफिले ने कुचल दिया। वहीं दूसरी मौत एक अधेड़ उम्र की महिला की हुई है, जो अस्पताल जा रही थी लेकिन घंटों ट्रैफिक रोके जाने के कारण रास्ते में ही उसकी सांसें टूट गई।

रिपोर्ट्स के मुताबिक शुक्रवार सुबह राष्ट्रपति की सुरक्षा व्यवस्था के लिए जा रहे तेज रफ्तार CRPF वाहन ने एक बाइक सवार को जोरदार टक्कर मार दी। बाइक पर एक तीन साल की मासूम बच्ची भी बैठी हुई थी। धक्का लगने के बाद वह नीचे गिर गई और उपर से CRPF का वाहन गुजर गया। बच्ची को अस्पताल भी ले जाया गया लेकिन मौके पर ही उसने दम तोड़ दिया था। 

दूसरा मामला, शुक्रवार के ही शाम का है। महामहिम की विशेष ट्रेन गुजरने वाली थी। प्रशासन ने उनके सम्मान में एक घंटे पहले से ही रेलवे क्रोसिंग पर गोविंदनगर में ट्रैफिक को रोक दिया। 50 वर्षीय वंदना मिश्रा को इसी दौरान उनके परिजन अस्पताल लेकर जा रहे थे। पोस्ट कोविड-19 सिम्पटम्स से पीड़ित वंदना की हालत बेहद खराब थी। लेकिन वह आम जनता थीं और शहर में वीआईपी मूवमेंट था।

इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (IIA) कानपुर महिला विंग की अध्यक्ष वंदना का उनकी सांसों ने ट्रैफिक खुलने तक साथ नहीं दिया। डेढ़ घंटे बाद जब उन्हें अस्पताल ले जाया गया तो डॉक्टरों ने बताया कि उनकी मौत हो चुकी है। वंदना के परिजनों का कहना है कि यदि रास्ते खुले होते, या उन्हें जाने दिया जाता तो आज वे जीवित होतीं। इस घटना के लिए कानपुर पुलिस कमिश्नर ने सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगी है। 

कानपुर नगर पुलिस कमिश्नर के ऑफिसियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है कि, 'आईआईए की अध्यक्षा बहन वन्दना मिश्रा जी के निधन के लिए कानपुर नगर पुलिस और व्यक्तिगत रूप से मैं क्षमा प्रार्थी हूं। भविष्य के लिए यह बड़ा सबक है। हम प्रण करते हैं कि हमारी रूट व्यवस्था ऐसी होगी कि न्यूनतम समय के लिए नागरिकों को रोका जाए ताकि ऐसी घटनाओं की पुनरावृति न हो।' 

इस घटना की सूचना मिलने पर महामहिम रामनाथ कोविंद और उनकी पत्नी सविता कोविंद ने दुख जताया। महामहिम की पत्नी ने कमिश्नर को निर्देश दिए हैं कि दोबारा ऐसी स्थिति न पैदा हो इसका विशेष ध्यान रखा जाए। महामहिम ने पुलिस कमिश्नर असीम औरम और जिला कलेक्टर आलोक तिवारी के हाथों वंदना के घर शोक संदेश भी भिजवाया। इसके बाद पुलिस कमिश्नर और कलेक्टर वंदना के अंतिम संस्कार के लिए परिजनों के साथ भैरवघाट भी गए।