चीन-जापान समेत पांच देशों से आने वाले यात्रियों का RT-PCR टेस्ट अनिवार्य, कोरोना को लेकर केंद्र सतर्क

चीन, जापान समेत कई देशों में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर केंद्र सरकार भी सतर्क नजर आ रही है। यही वजह है कि विदेश से भारत आने वाले यात्रियों को लेकर सरकार ने अहम फैसला लिया है।

Updated: Dec 24, 2022, 04:30 PM IST

चीन-जापान समेत पांच देशों से आने वाले यात्रियों का RT-PCR टेस्ट अनिवार्य, कोरोना को लेकर केंद्र सतर्क

नई दिल्ली। कोरोना अब फिर से जिस तरीके से चीन में कहर बरपा रहा है, उसे देख भारत की भी सिरदर्दी बढ़ने लगी है। यही वजह है कि भारत की तरफ से भी एहतियाती कदम उठाए जाने लगे हैं। अब चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, हांगकांग और थाईलैंड से आने वाले पैसेंजर्स के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण अनिवार्य कर दिया गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया ने कहा कि हम विमानन मंत्रालय से बात करके चीन, जापान, हांग कांग, बैंकॉक, दक्षिण कोरिया सभी से आने वाले यात्रियों के लिए RT-PCR अनिवार्य करेंगे।' स्वास्थ्य मंत्री ने आगे कहा, 'भारत में आने के बाद जिनको बुखार होगा या कोविड टेस्ट पॉजिटिव पाया जाए उन्हें क्वारंटाइन करने के लिए भी हम आदेश जारी करने जा रहे हैं।'

उन्होंने यह भी कहा कि इन देशों से आने वाले यात्रियों
को एक फॉर्म भरकर अपनी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में जानकारी देनी होगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने चीन और अन्य देशों में कोविड-19 के मामलों में वृद्धि को देखते हुए बृहस्पतिवार को लापरवाही के प्रति आगाह करते हुए कड़ी निगरानी का आह्वान किया था। उन्होंने निर्देश दिया था कि फिलहाल जारी निगरानी उपायों को, विशेष रूप से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों पर लागू उपायों को मजबूत किया जाए।

यह भी पढ़ें: नेपाल ने रामदेव की दिव्य फार्मेसी सहित 16 भारतीय दवा कंपनियों को ब्लैक लिस्ट में डाला

चीन में कोरोना से हालात बेकाबू हो गए हैं। ब्लूमबर्ग ने चीन की नेशनल हेल्थ कमीशन के हवाले से बताया है कि मंगलवार को यहां एक दिन में 3 करोड़ 70 लाख केसेस सामने आए थे। हालांकि, सरकारी आंकड़ों में इस दिन सिर्फ 3 हजार केस ही बताए गए। रिपोर्ट के मुताबिक, इस महीने के शुरुआती 20 दिनों में 24 करोड़ 80 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं।

चीन में फैल रहा BF.7 वैरिएंट भारत समेत दुनिया के 91 देशों में फैल गया है। स्क्रिप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार, यह वैरिएंट पिछले दो सालों से है। हालांकि, यह खतरनाक अब हुआ है।