Rajasthan: सचिन पायलट को सताई युवाओं की चिंता, CM अशोक गहलोत को लिखा पत्र

Ashok Gehlot: कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने सीएम को पत्र लिख याद दिलाया पांच फीसदी एमबीसी आरक्षण का वादा

Updated: Sep 12, 2020 11:38 PM IST

Rajasthan: सचिन पायलट को सताई युवाओं की चिंता, CM अशोक गहलोत को लिखा पत्र
Photo Courtsey : NDTV

जयपुर। राजस्थान कि सियासी घमासान थमने के बाद अब सचिन पायलट जनहितैषी मुद्दों को उठाने में लग गए हैं। कांग्रेस नेता में प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी द्वारा किए वादे का याद दिलाया। पायलट ने सीएम को पत्र लिखकर कहा है कि प्रदेश में देवनारायण योजना ठप पड़ गई है जो बहुत पीड़ादायक है, साथ ही उन्होंने विशेष पिछड़ा वर्ग (एसबीसी) को पांच फीसदी आरक्षण सुनिश्चित करने की भी मांग की है। 

राजस्थान कांग्रेस के युवा नेता सचिन पायलट ने प्रदेश के युवाओं की चिंता करते हुए सीएम गहलोत को पत्र लिखा है। पायलट ने लिखा है कि राज्य सरकार द्वारा निकाली गई भर्तियों में एसबीसी समाज को पांच फीसदी आरक्षण नहीं दिया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी ने 2018 विधानसभा चुनाव के दौरान अपने जन घोषणा पत्र में इस बात का उल्लेख किया था, साथ ही विगत कांग्रेस सरकार में वर्ष 2011 में समझौता हुआ था कि 4 फीसदी अतिरिक्त पद (छाया पद) के लिए सुरक्षित रखे जाएंगे।

Click: Sachin Pilot डिनर पर मिले सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट

पायलट ने आगे कहा कि कुछेक भर्तियों को छोड़कर शेष भर्तियों में पूरा 5 प्रतिशत आरक्षण नहीं दिया जा रहा हैं। पत्र में उन्होंने लिखा, 'मुझे प्राप्त प्रतिवेदनों के अनुसार जिन भर्तियों में 5 प्रतिशत आरक्षण नहीं दिया गया हैं, उनमें से कुछ इस प्रकार हैं-पुलिस कांस्टेबल भर्ती- 2018, रीट भर्ती 2018, पंचायती राज एल.डी.सी. भर्ती-2013, टेक्निकल हेल्पर भर्ती-2018, नर्सिंग भर्ती-2013 एवं 2018, जेल प्रहरी भर्ती-2018, आशा सुपरवाइजर भर्ती-2016, कॉमर्शियल असिस्टेंट भर्ती-2018, द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती 2018 एवं अन्य।

सचिन पायलट सचिन पायलट

कांग्रेस नेता ने देवनारायण बोर्ड को लेकर भी चिंता जाहिर की है। पायलट ने कहा है कि इसके अलावा देवनारायण बोर्ड व देवनारायण योजना के अन्तर्गत आने वाले विकासोन्नमुखी कार्य भी लगभग ठप्प पड़े हैं जो बहुत पीड़ादायक हैं तथा समय-समय पर लोग मुझसे व्यक्तिशः मिलकर उक्त दोनों योजनाओं को बजट देकर उचित ढंग से क्रियान्वित की भी पूरजोर मांग करते हैं। मेरा आपसे अनुरोध है कि उक्त बिन्दुओं पर शीघ्र करवाई करें।'