लखीमपुर के सवाल पर प्रेस कॉन्फ्रेंस बीच में छोड़ भागे नित्यानंद राय, डीजी ने पत्रकारों को हड़काया

मेरठ में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय, लखीमपुर का ज़िक्र होते ही वहां से चलते बने, सीआरपीएफ के डीजी कुलदीप सिंह पत्रकारों पर भड़के

Updated: Oct 07, 2021, 04:13 PM IST

लखीमपुर के सवाल पर प्रेस कॉन्फ्रेंस बीच में छोड़ भागे नित्यानंद राय, डीजी ने पत्रकारों को हड़काया

मेरठ। लखीमपुर खीरी नरसंहार मामले में बीजेपी के तमाम नेता सवालों से बचते हुए नज़र आ रहे हैं। मेरठ में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय से जब नरसंहार से जुड़ा सवाल पूछा गया तब वे प्रेस कॉन्फ्रेंस को बीच में ही छोड़ भाग खड़े हुए। मंत्री को प्रेस कॉन्फ्रेंस से जाता देख डीजी सवाल पूछने वाले पत्रकारों पर ही बरस पड़े।  

दरअसल मेरठ में आरएएफ 108 बटालियान की 29वीं वर्षगांठ थी।इसी अवसर पर मेरठ के आरएएफ ग्राउंड पर एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए मोदी कैबिनेट में गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय भी मेरठ पहुँचे थे। 

कार्यक्रम को संबोधित करने के बाद बीजेपी नेता एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान पुलिस सेवा के वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। प्रेस कॉन्फ्रेंस के बीच एक ऐसा लम्हा आ ही गया जब पत्रकारों ने मंत्री से लखीमपुर खीरी से जुड़ा सवाल दाग दिया। पत्रकारों के सवालों का जवाब देने में मंत्री इतना असहज हो गए कि वे सीधा प्रेस कॉन्फ्रेंस से उठकर चलते बने। 

यह भी पढ़ें ः प्रदर्शनकारियों को हत्या से चुप नहीं कराया जा सकता, वरुण गांधी ने बीजेपी सरकार पर बोला हमला

नित्यानंद राय तो वहां से उठकर चले गए, लेकिन सीआरपीएफ के डीजी कुलदीप सिंह सवाल पूछने वाले पत्रकारों पर ही भड़क उठे। इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में लखीमपुर खीरी का ज़िक्र होते ही नित्यानंद राय प्रेस कॉन्फ्रेंस से उठकर जाते हुए दिखाई दे रहे हैं। वहीं डीजी कुलदीप सिंह पत्रकारों पर भड़कते हुए कह रहे हैं, अरे आपको क्या तकलीफ है भाई, जो बात करना है करिए, आप इरिटेट क्यों करते हैं? आपको यही करना है तो बाहर जा कर करिए।  

लखीमपुर खीरी मामले में हत्या का आरोपी और मंत्री अजय मिश्रा का बेटा अब भी फरार है। आशीष मिश्रा को यूपी पुलिस अब तक पकड़ नहीं पायी है। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को यूपी सरकार को इस मामले में स्टेटस रिपोर्ट भी दाखिल करने के लिए कहा है। योगी सरकार को कल कोर्ट में यह जानकारी देनी है, कि अब तक इस मामले में कितने लोगों को गिरफ्तार किया गया है।