UP में भाजपाइयों की गुंडागर्दी पर बवाल, राहुल गांधी बोले- हिंसा का नाम मास्टरस्ट्रोक कर दिया

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने साधा बीजेपी पर निशाना, बोले- बंगाल की हिंसा 'हिंसा' यूपी की हिंसा 'मास्टरस्ट्रोक', प्रियंका गांधी ने भी किया वार

Updated: Jul 10, 2021, 12:16 PM IST

UP में भाजपाइयों की गुंडागर्दी पर बवाल, राहुल गांधी बोले- हिंसा का नाम मास्टरस्ट्रोक कर दिया
Photo Courtesy: Aajtak

लखनऊ। उत्तरप्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान सत्तारूढ़ भाजपाइयों ने जबरदस्त अराजकता फैलाई। इस दौरान कहीं गोलीबारी हुई, कहीं लाठियां चली तो कहीं विपक्ष के महिला नेतृ की साड़ी खोलने और ब्लाउज फाड़ने की कोशिशें की गई। प्रदेश में हुई इन घटनाओं को लेकर कांग्रेस ने सीएम योगी आदित्यनाथ को चौतरफा निशाने पर लिया है।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि इसे मास्टरस्ट्रोक बताया जा रहा है। उन्होंने ट्वीट किया, 'उत्तर प्रदेश में ‘हिंसा’ का नाम बदलकर ‘मास्टरस्ट्रोक’ रख दिया गया है।' राहुल ने इसके साथ एक खबर भी साझा की है जिसमें हिंसा के बारे में बताया गया है। 

BJP ने सारी हदें पार कर दी- प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी योगी आदित्यनाथ सरकार को आड़े हाथों लिया है। उन्होंने ट्वीट किया, 'कुछ सालों पहले एक बलात्कार पीड़िता ने भाजपा विधायक के खिलाफ आवाज उठाई थी, उसे व उसके परिवार को मारने की कोशिश की गई थी। आज एक महिला का नामांकन रोकने के लिए भाजपा ने सारी हदें पार कर दीं। सरकार वही। व्यवहार वही।' 

उधर वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने इस घटनाक्रम को लेकर मीडिया के लोगों पर भी तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट किया, 'कमाल है... बंगाल की हिंसा 'हिंसा', यूपी की हिंसा 'मास्टरस्ट्रोक'।' उन्होंने इसके साथ गोदी मीडिया और मोदी मीडिया हैशटैग दिया है। 

यह भी पढ़ें: BJP की गुंडागर्दी, फायरिंग, अपहरण से लेकर महिला की साड़ी तक खींचने के बीच हुआ UP ब्लॉक प्रमुख चुनाव का नामांकन

दरअसल, उत्तर प्रदेश में गुरुवार को ब्लॉक प्रमुख चुनाव के नामांकन के दौरान तीन दर्जन से ज्यादा जिलों में हिंसा हुई। नामांकन के दौरान लखीमपुर खीरी जिले मे सरेआम महिला प्रस्तावक की साड़ी खोलने का प्रयास किया गया। यह सब इसलिए किया गया ताकि अन्य उम्मीदवार पर्चा ही न भर सकें। नतीजतन हुआ भी वैसा ही और बीजेपी ने दावा किया कि 300 से ज्यादा सीटों पर उनके उम्मीदवार निर्विरोध चुनाव जीत गए।