उत्तराखंड के सीएम का अद्भुत ज्ञान, देश दो सौ साल रहा अमेरिका का गुलाम, ज्यादा बच्चों का लाभ भी गिनाया

तीरथ सिंह रावत ने कहा, जिसने 20 बच्चे पैदा किए उसे एक क्विंटल राशन मिलने पर जलते क्यों हो, जब मौक़ा था कब आपने क्यों नहीं पैदा किए ज़्यादा बच्चे, भारत को अमेरिका का गुलाम बताकर नया इतिहास भी गढ़ा

Updated: Mar 22, 2021, 09:00 AM IST

उत्तराखंड के सीएम का अद्भुत ज्ञान, देश दो सौ साल रहा अमेरिका का गुलाम, ज्यादा बच्चों का लाभ भी गिनाया
Photo Courtesy: Hindustan

देहरादून। महिलाओं की जीन्स पर विवादित बयान देकर घिर चुके उत्तराखंड के नए-नवेले मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत लगता है विवादित बयानों की फेहरिस्त बढ़ाने में जुटे हैं। बीजेपी नेता ने इतिहास के अद्भुत ज्ञान का परिचय देते हुए बताया है कि भारत 200 वर्षों तक अमेरिका का गुलाम रहा है। इसके साथ ही उन्होंने ज्यादा बच्चे पैदा करने का ऐसा लाभ भी बताया है, जो पहले किसी ने शायद ही सोचा होगा। रावत ने कहा कि सरकार की तरफ से चावल बंटने पर कुछ लोगों को लगता है कि जिनके अधिक बच्चे हैं उन्हें ज्यादा चावल मिल रहा है। ऐसे लोगों को सोचना चाहिए कि जब वक्त था तब उन्होंने ज्यादा बच्चे क्यों नहीं पैदा किए? अब जलन क्यों हो रही है?

उत्तराखंड के विद्वान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने यह ज्ञान भरी बातें रविवार को रामनगर में अंतरराष्ट्रीय वानिकी दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कहीं। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान सरकार द्वारा बांटे गए अनाज का जिक्र करते हुए कहा, 'लोगों में सरकार द्वारा बांटे गए चावल को लेकर जलन भी होने लगी। लोग कहने लगे कि दो सदस्यों वाले परिवार को 10 किलो अनाज ही मिला, लेकिन 20 सदस्यों वाले परिवार को एक क्विंटल अनाज क्यों दिया गया।' तीरथ सिंह रावत ने आगे कहा, 'भैया इसमें दोष किसका है, उसने 20 पैदा किए, आपने दो पैदा किए, तो उसको एक क्विंटल मिल रहा है, इसमें जलन काहे की। जब समय था, तब आपने दो ही पैदा किए, 20 क्यों नहीं किए?'

 

 

भारत को बताया अमेरिका का गुलाम

इतना ही नहीं सीएम रावत ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को इतिहास का एक बिलकुल नया ज्ञान भी दे डाला। उन्होंने बताया कि भारत 200 सालों तक अमेरिका का गुलाम रहा है। सीएम की यह बात सुनकर वहां मौजूद लोग हैरान रह गए। कुछ लोगों ने अंदाज़ा लगाया कि मुख्यमंत्री शायद अंग्रेजों की गुलामी का जिक्र करना चाहते होंगे, लेकिन गलती से अमेरिका का नाम ले लिया।

तीरथ सिंह रावत मुख्यमंत्री बनने के बाद से लगातार विवादित बयानबाजी कर रहे हैं, जिसकी बदौलत उन्होंने बेहद कम ही दिनों में ही काफी सुर्खियां बटोर ली हैं। सबसे पहले रावत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना भगवान राम और कृष्ण से करते हुए उन्हें कलयुग का भगवान बताया। उन्होंने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि द्वापर और त्रेता युग में राम और कृष्ण हुए। उन्होंने समाज का काम किया, इसीलिए लोग उन्हें भगवान मानने लग गए। आने वाले समय में नरेंद्र मोदी को भी इसी रूप में हम मानने लगेंगे।

इसके बाद उन्होंने फटी जींस पहनने वाली महिलाओं पर विवादित बयान दे डाला। उन्होंने कहा कि जो महिलाएं घुटनों पर फटी जींस पहनती हैं, वो समाज में क्या संस्कार फैलाती होंगी। इस बयान के बाद देश भर की महिलाओं ने एक स्वर में उनकी आलोचना की थी। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी समेत कई लोगों ने तो आरएसएस के हाफ पैंट वाले दिनों की तस्वीरें शेयर करते हुए प्रधानमंत्री मोदी से लेकर तमाम बीजेपी नेताओं के घुटने और टांगें दिखने पर भी सवाल उठा दिए थे।

इस मामले में बुरी तरह घिर जाने के बाद आखिरकार उन्हें माफी मांगनी पड़ी थी। सूत्रों के हवाले से आई कुछ खबरों के मुताबिक तो विवाद बढ़ने पर पार्टी हाईकमान ने ही उन्हें माफी मांगकर बात खत्म करने को कहा गया था। लेकिन वो विवाद खत्म हुआ नहीं कि रावत एक बार फिर से नए बयानों के साथ विवादों के मैदान में सुर्खियां बटोरने उतर पड़े हैं।