पीएम मोदी ने किया काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण, बोले- हजारों सालों की प्रतीक्षा पूरी हुई

गंगा में डुबकी लगाने के बाद काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण करने पहुंचे पीएम मोदी, बोले- इतिहास रच रही है और हम इसके साक्षि बन रहे हैं

Updated: Dec 13, 2021, 05:43 PM IST

पीएम मोदी ने किया काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण, बोले- हजारों सालों की प्रतीक्षा पूरी हुई

वाराणसी। पीएम नरेंद्र मोदी ने आज अपने लोकसभा क्षेत्र काशी में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण किया। इससे पहले उन्होंने गंगा नदी में डुबकी लगाई। पीएम मोदी ने उद्घाटन के दौरान कहा कि आज हजारों सालों की प्रतीक्षा पूरी हुई है। इतिहास रच रहा है और हम इसके साक्षि बन रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस उद्घाटन समारोह में 2 हजार से अधिक साधु-संतों को आमंत्रित किया गया है।

पीएम मोदी ने यहां मौजूद साधु-संतों को संबोधित करते हुए कहा कि, 'अभी मैं बाबा के साथ साथ नगर कोतवाल कालभैरव जी के दर्शन करके भी आ रहा हूँ, देशवासियों के लिए उनका आशीर्वाद लेकर आ रहा हूँ। काशी में कुछ भी नया हो, उनसे पूछना आवश्यक है। मैं काशी के कोतवाल के चरणों में भी प्रणाम करता हूं। हमारे पुराणों में कहा गया है कि जैसे ही कोई काशी में प्रवेश करता है, सारे बंधनों से मुक्त हो जाता है। भगवान विश्वेश्वर का आशीर्वाद, एक अलौकिक ऊर्जा यहाँ आते ही हमारी अंतर-आत्मा को जागृत कर देती है।'

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि, 'आज शिव जी का प्रिय दिवस सोमवार है। आज की तिथि मार्गशीर्ष शुक्ला दशमी, विक्रम संवत् 2078 नया इतिहास रच रही है और हम इसके साक्षी बन रहे हैं। जब भी कोई शुभ अवसर होता है सारी शक्तियां, देवियां काशी में उपस्थित हो जाती हैं। यहां आसपास जो अति प्राचीन मंदिर विलुप्त हो गए थे उन्हें भी पुनर्स्थापित कर दिया गया है। बाबा विश्वनाथ सबके हैं, मां गंगा सबकी है। उनका आशीर्वाद सबके लिए है लेकिन समय और परिस्थिति के चलते यहां आना दुर्गम हो गया था, लेकिन अब यहां पहुंचना सुगम हो गया है।'

पीएम मोदी के मुताबिक पहले यहां जो मंदिर क्षेत्र केवल 3000 वर्ग फीट में था वो अब 5 लाख वर्ग फीट का हो गया है। अब यहां 70 हजार तक श्रृद्धालु आ सकते हैं। उन्होंने कहा की, 'विश्वनाथ धाम का यह पूरा परिसर एक भव्य भवन भर नहीं है। यह प्रतीक है हमारी सनातन संस्कृति, प्राचीनता, ऊर्जा, परंपरा और गतिशीलता का। जब आप यहां आएंगे तो आस्था और अतीत के गौरव का अहसास भी होगा। जब मैं बनारस आया था तब एक विश्वास लेकर आया था, विश्वास अपने से ज्यादा बनारस के लोगों पर था। आज हिसाब-किताब का समय नहीं है।'

यह भी पढ़ें: UP बीजेपी का लड्डू पॉलिटिक्स, काशी विश्वनाथ कॉरिडोर लोकार्पण के बाद 8 लाख घरों में बंटेंगे लड्डू

उन्होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि जब मैं यहां आया तब कुछ ऐसे लोग भी थे जो बनारस के लोगों पर संदेह करते थे कि कैसे होगा, नहीं होगा, ये मोदी जी जैसे बहुत आकर गए। पीएम ने कहा, 'मुझे बहुत आश्चर्य होता था, लेकिन ये जड़ता बनारस की नहीं थी, वो राजनीति थी। लेकिन काशी तो, काशी है। काशी तो अविनाशी है। काशी में एक ही सरकार है। जिनके हाथों में डमरू है, उनकी सरकार है।'

पीएम मोदी ने इस दौरान काशी विश्वनाथ कॉरिडोर निर्माण में काम करने वाले मजदूरों को धन्यवाद ज्ञापित किया। इस दौरान वे मजदूरों पर फूल बरसाते भी दिखे। पीएम मोदी के इस कार्यक्रम में फोटोग्राफी के लिए दूरदर्शन के 55 कैमरामैन लगाए गए हैं, साथ ही ड्रोन से भी वीडियोग्राफी हो रही है।