धान की ज्वाला से पसीजे वरूण गांधी, कहा बीजेपी को कृषि नीति पर है पुनर्चिंतन की ज़रूरत

वरुण गांधी ने अपने ट्विटर हैंडल पर लखीमपुर खीरी का एक वीडियो साझा किया है, जिसमें धान की खरीद न होने से हताश एक किसान अपने ही धान में आग लगाते हुए दिखाई दे रहा है

Updated: Oct 24, 2021, 08:40 AM IST

धान की ज्वाला से पसीजे वरूण गांधी, कहा बीजेपी को कृषि नीति पर है पुनर्चिंतन की ज़रूरत

नई दिल्ली। बीजेपी नेता वरुण गांधी ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी की सरकार पर हमला बोला है। अपने ही धान में एक किसान को आग लगाता देख वरुण गांधी ने कहा कि आखिर इस व्यवस्था ने किसानों को कहां लाकर खड़ा कर दिया है। इसके साथ ही उन्होंने फिर ज़ोर दिया है कि मौजूदा वक्त में कृषि नीति पर एक बार फिर से सोचने की ज़रूरत है।   

दरअसल वरुण गांधी ने यह टिप्पणी उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के एक किसान के वायरल वीडियो को साझा करते हुए किया है। वायरल वीडियो में धान की बिक्री नहीं हो पाने से हताश किसान अपने ही धान को आग लगाते नज़र आ रहे हैं। वरुण गांधी ने वीडियो पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि उत्तर प्रदेश के किसान श्री समोध सिंह पिछले 15 दिनों से अपनी धान की फसल को बेचने के लिए मंडियों में मारे-मारे फिर रहे थे, जब धान बिका नहीं तो निराश होकर इसमें स्वयं आग लगा दी। इस व्यवस्था ने किसानों को कहाँ लाकर खड़ा कर दिया है? कृषि नीति पर पुनर्चिंतन आज की सबसे बड़ी ज़रूरत है। 

वायरल वीडियो के बारे में दावा किया जा रहा है कि किसान समोध सिंह लखीमपुर ज़िले की मोहम्मदी तहसील के मंडी परिसर में अपना धान लेकर पहुँचे थे। धान के लिए बारदाना न होने का हवाला देकर अधिकारियों ने समोध सिंह को इंतज़ार करने को कहा। लेकिन इंतज़ार करते करते किसान परेशान हो गया, वारदाना नहीं मिला.. हताश होकर समोध सिंह नामक इस किसान ने धान की तुलाई के लिए सेंटर दर सेंटर चक्कर काटना शुरू किया। इस तरह पंद्रह दिन गुज़र गए मगर समोध सिंह की धान बेचने की आशा खत्म हो गयी। आखिरकार निराशा के सामने घुटने टेकते हुए समोध सिंह ने दिल की भड़ास अपने ही धान में आग लगाकर निकाली। नेट पर वायरल हो रहे इस वीडियो से वरूण गांधी भले ही पसीज रहे हों लेकिन सत्ता के माथे कोई शिकन नहीं है। 

यह भी पढ़ें ः अटल का वीडियो साझा कर वरुण गांधी ने बीजेपी को चेताया, किसानों का दमन करना छोड़ दो

वरुण गांधी इससे पहले भी किसानों की आवाज़ उठा चुके हैं। बीते कुछ महीनों से उन्होंने लगातार अपनी पार्टी से किसानों की समस्या सुनने की मांग की है। हाल ही में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के एक वीडियो को साझा कर वरुण गांधी ने अपनी पार्टी को यह संदेश देने की कोशिश भी की थी कि अगर जल्द ही किसानों का दमन करना नहीं छोड़ा गया तो वे किसानों के समर्थन में कूदने में देर नहीं करेंगे।  

यह भी पढ़ें ः कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं वरुण गांधी, भाजपा से निष्कासित किए जाने का कर रहे हैं इंतज़ार: रिपोर्ट्स

हालांकि किसानों के समर्थन में बात रखने का खामियाज़ा वरुण गांधी को उठाना भी पड़ा है। बीजेपी ने उन्हें और उनकी माँ मेनका गांधी को अपनी कार्यसमिति से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। लेकिन राजनीति पर पैनी निगाह रखनेवाले अब वरुण गांधी के खिलाफ बीजेपी के अगले कदम के इंतज़ार में है। कुछ जानकारों का कहना है कि खुद वो भी बीजेपी से निष्कासित किए जाने का इंतज़ार कर रहे हैं। ताकि ऐसी स्थिति में वे सांसद बने रहें। अन्यथा खुद पार्टी छोड़ने पर नियमानुसार वरुण गांधी की लोकसभा की सदस्यता समाप्त हो जाएगी।