वायरल वीडियो बने अन्नदाता की आवाज़, किसान विरोधी दुष्प्रचार का दे रहे करारा जवाब

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने शेयर किया एक नौजवान का वीडियो, हरियाणा की बेटी सन्नी का भाषण भी हुआ बेहद लोकप्रिय

Updated: Jan 30, 2021, 02:01 PM IST

वायरल वीडियो बने अन्नदाता की आवाज़, किसान विरोधी दुष्प्रचार का दे रहे करारा जवाब

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का दो महीने से ज़्यादा वक्त से चल रहा आंदोलन अब एक नए दौर में पहुंच गया है। गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हुई घटनाओं के बाद सरकार के समर्थक और मीडिया का एक हिस्सा आंदोलनकारियों पर तरह-तरह के आरोप लगाने में जुटे हैं। जवाब में किसानों की आवाज़ बुलंद करने वाले नए-नए चेहरे भी सामने आ रहे हैं। मीडिया के बड़े हिस्से में ऐसी आवाजों को भले ही जगह न मिल रही हो, लेकिन सोशल मीडिया पर उन्हें जबरदस्त लोकप्रियता मिल रही है। ऐसे ही दो वीडियो हाल ही में वायरल हो गए हैं, जिनमें किसानों का पक्ष ज़ोरदार ढंग से सामने रखा गया है।  

कांग्रेस के दिग्गज नेता और सांसद दिग्विजय सिंह ने ऐसे ही एक नौजवान का वीडियो शेयर किया है। हरियाणा के इस नौजवान ने मीडिया में किसानों को आतंकवादी और खालिस्तानी बताए जाने का अपने अंदाज़ में करारा जवाब दिया है। कांग्रेस नेता ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है कि ये किसानों के दिल की आवाज़ है, ज़रूर सुनें। 

 

 

दरअसल इस नौजवान ने किसानों को आतंकवादी-खालिस्तानी बताने वालों को जवाब देते हुए कहा है कि देश की 70 फीसदी आबादी सीधे कृषि से जुड़ी हुई है। तो क्या देश की अधिकतर आबादी आतंकवादी है? आप हमें बताओ फिर देशभक्त कौन है? हम आतंकवादी हैं तो आप हमसे ऐसे खुलेआम बात कैसे कर पा रहे हो? इतना ही नहीं, इस नौजवान ने अपने वीडियो में केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों से होने वाले नुकसान के बारे में भी लोगों को अपने ढंग से जागरूक करने का प्रयास किया है। 

इस नौजवान किसान की तरह ही सन्नी नाम की एक लड़की के भाषण का वीडियो भी सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। सन्नी ने अपने भाषण में मीडिया द्वारा किसानों के खिलाफ किए जा रहे भ्रामक दुष्प्रचार का करारा जवाब दिया है।

झंडे का अपमान तब होता है, जब सीमा पर जवान और खेती कर रहा किसान रोता है

सन्नी ने अपने भाषण में किसानों पर देश के झंडे का अपमान करने के आरोपों का जवाब देते हुए कहा है कि झंडे का अपमान तब होता है जब सीमा पर जवान और खेती कर रहा किसान रोता है। सरकार इंटरनेट का कनेक्शन रोक सकती है, लेकिन दिलों से जुड़े तारों को कैसे तोड़ पाएगी। मीडिया पर तंज कसते हुए सन्नी ने कहा कि गोदी मीडिया ने मज़ाक उड़ाने वाले अंदाज़ में दुष्प्रचार के लिए दिखाया कि हमारे नेता रो रहे हैं, मीडिया का मकसद कुछ भी रहा हो, उन्होंने बताया कि हमारे नेता परेशान हैं और हम उनका साथ देने यहां आ गए। मैं इसके लिए गोदी मीडिया को धन्यवाद देती हूं।

मोदी सरकार से हमें बेटी और खेती दोनों को बचाना है

अपने भाषण में किसानों को संबोधित करते हुए सन्नी कहती है कि हमें इस समय खेती और बेटी दोनों को बचना है। मीडिया पर हमलावर सन्नी कहती है कि सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या और कंगना को मीडिया बढ़ चढ़कर दिखाता है, लेकिन बेटियों के साथ जब मानवता को शर्मसार करने वाली घटना होती है तो चार पांच दिनों तक मीडिया की आंख नहीं खुलती है। सन्नी की भाषा कई जगह मर्यादा की