विराट कोहली पर भड़के सहवाग, श्रेयस अय्यर को टीम में न रखने पर उठाए सवाल

IND VS AUS: शुक्रवार को भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया टी-ट्वेंटी सीरीज के पहले मैच में श्रेयस अय्यर को जगह न दिए जाने को लेकर काफी नाराज दिखे सहवाग, कोहली को जमकर कोसा

Updated: Dec 05, 2020, 04:09 PM IST

विराट कोहली पर भड़के सहवाग, श्रेयस अय्यर को टीम में न रखने पर उठाए सवाल
Photo Courtesy: Scroll.in

इंडियन क्रिकेट टीम के दिग्गज बल्लेबाज रहे वीरेंद्र सहवाग एक बार फिर से टीम के मौजूदा कैप्टन विराट कोहली पर भड़क गए हैं। सहवाग ने श्रेयस अय्यर को टीम से बाहर किए जाने पर सवाल उठाते हुए कोहली को जमकर लताड़ा है। उन्होंने आरोप लगाया है कि कोहली के लिए कोई तय नियम नहीं है। उनपर कोई नियम लागू न होना गलत है।

दरअसल, श्रेयस अय्यर का टी 20 फॉर्म पिछले कुछ सीरीज में कमाल का रहा था। बावजूद इसके सिलेक्टर्स ने उन्हें टीम में शामिल करना मुनासिब नहीं समझा। इस बात पर भड़के सहवाग ने स्टार स्पोर्ट से बातचीत के दौरान कहा, 'अगर आप श्रेयस अय्यर के बारे में बात करेंगे, तो उनका प्रदर्शन पिछले टी 20 सीरीज में शानदार रहा था, तो किस वजह के चलते आपने उनको इस मैच में नहीं खिलाया। क्या इसका कोई कारण था? मुझे नहीं लगता कि श्रेयस अय्यर के पास इतनी हिम्मत होगी कि वह जा कर पूछ सके कि उनको क्यों नहीं खिलाया गया।'

सहवाग ने यह भी आरोप लगाया कि नियम कानून सिर्फ बाकियों के लिए बने हैं, विराट कोहली पर वह लागू नहीं होते। उन्होंने कहा, 'मैं एक चीज और कहूंगा, सारे नियम सबके लिए लागू होते हैं सिर्फ विराट कोहली को छो़ड़कर, उनके ऊपर कोई नियम लागू नहीं होता है। ना उनका बैटिंग ऑर्डर बदलता है, ना ही खराब फॉर्म के होने के समय उनको ब्रेक दिया जाता है। यह गलत है।'

बता दें कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए पहले टी20 मैच में टीम इंडिया ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए कंगारू टीम को 11 रनों से हराया। इस जीत के साथ ही भारत ने तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त भी बना ली है। टीम की तरफ से केएल राहुल (51) और रविंद्र जडेजा (नॉटआउट 44) ने ताबड़तोड़ पारी खेली, जिसके चलते भारत ने 20 ओवर में 7 विकेट खोकर 161 रन बनाए। जवाब में ऑस्ट्रेलिया की टीम ने 20 ओवर में 7 विकेट खोकर 150 रन ही बना सकी।

इस मैच में चोटिल होने के कारण जडेजा की जगह कंकशन सब्स्टिट्यूट के तौर पर युजवेंद्र चहल मैदान में आए और तीन विकेट झटककर मैन ऑफ द मैच भी बन गए। इसके साथ ही क्रिकेट के इतिहास में  ऐसा पहली बार हुआ कि सब्सिट्यूट के तौर पर आए किसी खिलाड़ी ने मैन ऑफ द मैच का खिताब जीता हो।