कौन होंगे देश के अगले राष्ट्रपति, वोटिंग आज, यशवंत सिन्हा ने बीजेपी के प्रतिनिधियों से की जोरदार अपील

राष्ट्रपति पद के लिए NDA की ओर से द्रौपदी मुर्मू तथा UPA की ओर से पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा उम्मीदवार हैं, मुर्मू निर्वाचित होने पर आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली भारत की पहली राष्ट्रपति होंगी

Updated: Jul 18, 2022, 09:44 AM IST

कौन होंगे देश के अगले राष्ट्रपति, वोटिंग आज, यशवंत सिन्हा ने बीजेपी के प्रतिनिधियों से की जोरदार अपील

नई दिल्ली। देश के 15वें राष्ट्रपति के चुनाव की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। सोमवार को संसद भवन और राज्य विधानसभाओं में इसके लिए वोट डाले जाएंगे। देश भर के करीब 4,800 विधायक और सांसद राष्ट्रपति चुनाव में मतदान करेंगे। मतदान सुबह 10 बजे से शाम पांच बजे तक होगा। वोटों की गिनती 21 जुलाई को होगी और अगले राष्ट्रपति का शपथ ग्रहण 25 जुलाई को होगा।

राष्ट्रपति पद के लिए NDA की ओर से द्रौपदी मुर्मू तथा UPA की ओर से पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा उम्मीदवार हैं। द्रौपदी मुर्मू इसके पहले झारखंड की राज्यपाल रह चुकी हैं। आदिवासी नेता मुर्मू निर्वाचित होने पर मुर्मू आदिवासी समुदाय से ताल्लुक रखने वाली भारत की पहली राष्ट्रपति होंगी। वहीं, विपक्षी दलों ने कभी बीजेपी के बड़े नेता रहे और पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के नाम पर दांव लगाया है। सिन्हा ने 2018 में बीजेपी का साथ छोड़ दिया था और आरोप लगाया था कि बीजेपी में वो अंदरूनी लोकतंत्र नहीं रहा, जो पहले हुआ करता था।

यह भी पढ़ें: 57 साल बाद ग्वालियर में कांग्रेस की ऐतिहासिक जीत, सिंधिया को अपने गढ़ में मिला बड़ा जख्म

यशवंत सिन्हा ने राष्ट्रपति चुनाव की पूर्व संध्या पर रविवार को प्रतिद्वंद्वी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू पर तीखा हमला करते हुए कहा कि अगर वह चुनी जाती हैं, तो वह ‘‘मूक, अदृढ और रबर-स्टाम्प राष्ट्रपति'' बनेंगी। सिन्हा ने देश भर के सांसदों और विधायकों से ‘‘संविधान, लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता और भारत को बचाने'' में मदद करने के लिए पार्टी-संबद्धता की परवाह किए बिना उन्हें वोट देने की जोरदार अपील की। उन्होंने भाजपा सांसदों से कहा यह चुनाव आपके लिए भाजपा में बहुत जरूरी सुधार लाने का आखिरी मौका है।

चुनाव आयोग के मुताबिक इस बार एक सांसद के वोट का मूल्य 700 है। अलग-अलग राज्यों में हर विधायक के वोट का मूल्य अलग-अलग होता है। उत्तर प्रदेश में प्रत्येक विधायक के वोट का मूल्य 208 है, इसके बाद झारखंड और तमिलनाडु में 176 है। महाराष्ट्र में यह 175 है। सिक्किम में प्रति विधायक वोट का मूल्य सात है, जबकि नगालैंड में यह नौ और मिजोरम में आठ है।