57 साल बाद ग्वालियर में कांग्रेस की ऐतिहासिक जीत, सिंधिया को अपने गढ़ में मिला बड़ा जख्म

ग्वालियर के नतीजों ने सियासी पंडितों को चौंकाया, दो-दो केंद्रीय मंत्रियों के रहते हार गई बीजेपी, सिंधिया से लोगों का मोहभंग, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने दी नेताओं और कार्यकर्ताओं को बधाई

Updated: Jul 18, 2022, 01:00 AM IST

57 साल बाद ग्वालियर में कांग्रेस की ऐतिहासिक जीत, सिंधिया को अपने गढ़ में मिला बड़ा जख्म

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के 11 नगर निगमों के नतीजे स्पष्ट हो गए हैं। बीजेपी को महापौर चुनाव में 4 सीटों का नुकसान हुआ। सबसे ज्यादा चौंकाने वाले नतीजे ग्वालियर में आए। यहां 57 साल बाद कांग्रेस ने महापौर पद पर कब्जा बनाया है। ग्वालियर क्षेत्र से दो-दो केंद्रीय मंत्रियों के रहते बीजेपी कि हार ने पार्टी नेताओं को चिंतित कर दिया है। वहीं एक बार फिर अपना गढ़ हारने के बाद सिंधिया भी खासे विचलित हैं।

ग्वालियर से बीजेपी की सुमन शर्मा का मुकाबला कांग्रेस उम्मीदवार शोभा सिकरवार से था। सुमन शर्मा को जिताने के लिए केंद्रीय उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एड़ी चोटी की दम लगा दी थी। हालांकि, जनता ने बीजेपी की राजनीति को सिरे से खारिज कर दिया। यहां कांग्रेस की महापौर प्रत्याशी शोभा सिकरवार ने भाजपा की सुमन शर्मा को 28805 मतों से हराया। 

यह भी पढ़ें: बुरहानपुर में AIMIM ने बिगाड़ा कांग्रेस का खेल, ओवैसी की एंट्री से बीजेपी को फायदा

कांग्रेस प्रत्याशी शोभा सिकरवार को कुल 2 लाख 35 हजार 154 वोट हासिल हुए थे। वहीं, बीजेपी प्रत्याशी को कुल 2 लाख 06 हजार 349 वोट मिले। यहां आम आदमी पार्टी को 45,762 वोट हासिल हुए। इस जीत के बाद सर्वाधिक चर्चा शोभा सिकरवार के पति व ग्वालियर पूर्व से कांग्रेस विधायक सतीश सिकरावर की हो रही है। सिकरवार ने इससे पहले विधानसभा उपचुनाव में भी सिंधिया को अपनी ताकत का अहसास कराया था। तब उन्होंने सिंधिया के बेहद करीबी विधायक को बड़े अंतर से मात दी थी। 

ग्वालियर में जीत के बाद एक ओर सिंधिया की चौतरफा किरकिरी हो रही है वहीं कांग्रेस के जमीनी कार्यकर्ता तारीफें बटोर रहे हैं। कांग्रेस महासचिव ने चुनाव नतीजों को लेकर ट्वीट किया कि, 'मप्र नगर निकाय चुनावों में सराहनीय व साहसी प्रदर्शन के लिए मप्र कांग्रेस के सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं को बधाई। भाजपा सरकार के चौतरफा हमलों, धन-बल के बावजूद आपकी जी-तोड़ मेहनत ने आज ग्वालियर नगर निगम में 57 साल बाद व जबलपुर में 23 साल बाद कांग्रेस का झंडा गाड़ कर इतिहास रच दिया।जनमुद्दों पर संघर्ष व जनसेवा के मूलमंत्र के साथ मैदान में डटे रहिए, आने वाले समय में गांव-गांव, नगर-नगर में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की जनहितैषी व देश को जोड़ने वाली विचारधारा का परचम लहराएगा।'

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख जयराम रमेश ने लिखा कि, 'ग्वालियर नगर निगम चुनाव में कांग्रेस की जीत से ज्यादा खुशी मुझे किसी और चीज में नहीं हुई। शानदार प्रदर्शन! भाजपा यहां 'क्रैश' होकर गिर गई है।'

चुनाव नतीजों के बाद सिंधिया का एक पुराना वीडियो भी वायरल हो रहा है। इसमें सिंधिया कमलनाथ और दिग्विजय सिंह का नाम लेकर उन्हें चुनौती दे रहे हैं। सिंधिया कहते हैं कि "दोनों सुन लें... टाइगर अभी जिंदा है"। एमपी कांग्रेस ने इस वीडियो को शेयर करते हुए लिखा कि नकली शेर ढेर हो गया।