सिर्फ़ एक क्लिक से उतरें सिक्कों के बाज़ार में और बनें लखपति, करोड़पति

अगर आपके पास पुराने दौर के रेयर सिक्के हैं तो आप उन्हें विभिन्न वेबसाइट्स के माध्यम से बोली लगाकर बेच सकते हैं, पुराने सिक्कों की डिमांड बढ़ने से वे लाखों करोड़ों की कीमत में बिक रहे हैं, 25 पैसे के सिक्के की कीमत 1.5 लाख से शुरू होती है

Updated: Dec 06, 2021, 02:46 PM IST

सिर्फ़ एक क्लिक से उतरें सिक्कों के बाज़ार में और बनें लखपति, करोड़पति
Photo Courtesy: social media

भोपाल। दादी-नानी के जमाने के पुराने सिक्के जिनका चलन बंद होने की वजह से आपने उन्हें बरसों से अपनी गुल्लक में सम्भाल कर रखा है या फिर शौक में जमा कर रखा है, तो यकीन मानिए आज आप लखपति बन सकते हैं। ये शौक आपको मालामाल कर सकता है। सिर्फ एक क्लिक में आप पुराने सिक्कों की मार्केट में कदम रखें और अपना एक-एक सिक्का 1.5 से 2.5 लाख रुपए में बेचें। सिक्कों की ऑनलाइन ट्रेडिंग आजकल करोड़पति बनने की गारंटी बतायी जा रही है।

दुनिया में सिक्का संग्रह करने वाली कई संस्थाएं हैं, जो विभिन्न वेबसाइट के माध्यम से सिक्कों को खरीदती हैं। अगर आपको भी सिक्के जमा करने का शौक है तो आप भी अपना किस्मत आजमा सकते हैं। अगर आपके पास इंडियन करंसी का 25 पैसे का सिल्वर कलर का सिक्का है, तो उसे ऑनलाइन इसे बेचकर आप करीब डेढ़ लाख रुपये तक की कमाई कर सकते हैं।  दरअसल Quickr, OLX जैसी वेबसाइट पर इस तरह के रेयर सिक्कों की कीमत लाखों में लगाई गई है। पुराने रेयर सिक्कों के साथ नोटों को भी indiamart.com पर बेचा जा सकता है।

यदि आपके पास पुराने जमाने का 25 पैसे का सिक्का हो तो आप उस रेयर सिक्के के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं। सिक्का सेल करने के लिए आपको रजिस्ट्रेशन करना होगा। अपने सिक्के के दोनों साइड की फोटो अपलोड करके अपनी सारी जानकारी लिखनी होगी। वहां पर आपको मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी समेत अन्य जानकारियां मांगी जाएंगी। जिसके वेरिफिकेशन के बाद खरीदार आपसे संपर्क करके सिक्के खरीदेगा और आपके खाते में पैसे डाल देगा। 

कुछ महीनों पहले अंग्रेजों के जमाने का एक रुपए का सिक्का 10 करोड़ रुपये में नीलाम हुआ था। उस पर 1885 छापा था। इसी तरह अन्य सिक्कों की भी ऑनलाइन डिमांड है,25 के आलवा 5 पैसे और 10 पैसे के सिक्के भी भारी डिमांड में हैं। जिन सिक्कों पर माता वैष्णो देवी की तस्वीर हो उनकी भी काफी अच्छी कीमत रखी गई है। माता वैष्णोंदेवी छपा सिक्का साल 2002 में आया था।