सोशल मीडिया पर जय शाह हुए ट्रोल, खराब अंग्रेज़ी का उड़ा मज़ाक

सोशल मीडिया पर एक वर्ग खराब अंग्रेज़ी के लिए जय शाह का मज़ाक उड़ा रहा है, तो वहीं बुद्धिजीवि तबका जय शाह की अंग्रेज़ी के बहाने बीजेपी और विशेषकर अमित शाह को वंशवाद की याद दिला रहा है

Publish: Sep 09, 2021, 06:24 PM IST

सोशल मीडिया पर जय शाह हुए ट्रोल, खराब अंग्रेज़ी का उड़ा मज़ाक

मुंबई। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे और बीसीसीआई के सचिव जय शाह इस समय सोशल मीडिया पर जमकर ट्रोल हो रहे हैं। जय शाह को उनकी खराब अंग्रेज़ी और घोषणा करने के उनके तरीके के लिए ट्रोल किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर लोग जय शाह के बहाने बीजेपी और खास तौर पर अमित शाह पर भी तंज कस रहे हैं। अमित शाह द्वारा वंशवाद पर की गई उनकी टिप्पणीयों को लेकर गृह मंत्री की जमकर आलोचना हो रही है। 

दरअसल बुधवार को टी-ट्वेंटी वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का ऐलान किया गया। चयनित टीम की घोषणा खुद बोर्ड के सचिव जय शाह ने की। लेकिन इस दौरान जिस तरह से जय शाह ने अंग्रेज़ी का उपयोग, इसे लेकर उनकी आलोचना की जा रही है। जय शाह का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है।  

वायरल वीडियो में जय शाह टीम की घोषणा करने के साथ-साथ यह जानकारी भी दे रहे हैं कि आगामी वर्ल्ड कप में मेंटोर के रूप में भारतीय टीम के साथ जुड़ने के बीसीसीआई के आग्रह को पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने स्वीकार कर लिया है। वे टी-ट्वेंटी वर्ल्ड कप के दौरान भारतीय टीम के मार्गदर्शन के लिए जुड़ेंगे।  

वीडियो में जय शाह ने यह सब कहने के लिए अंग्रेज़ी भाषा का उपयोग किया है। लेकिन उनके बोलने के तरीके से यह साफ प्रतीत हो रहा है कि उनकी अंग्रेज़ी बेहद कमज़ोर है। क्योंकि वे हर शब्द अटक-अटक कर बोलते हुए दिखाई दे रहे हैं। इतना ही नहीं वीडियो को देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा है, जैसे वो हर शब्द उनकी आंखों के सामने रखी हुई जानकारी को पढ़कर बोल रहे हैं।  

यह भी पढ़ें ः  धोनी को मेंटोर बनाए जाने के फैसले पर BCCI को मिली शिकायत, हितों के टकराव का दिया गया कारण

यही वजह है कि जय शाह ट्रोल्स के निशाने पर आ गए हैं। जय शाह को उनकी खराब अंग्रेज़ी के लिए निशाना बनाया जा रहा है। साथ ही बीसीसीआई के सचिव के पद पर उनकी नियुक्ति पर भी सवाल खड़ा किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर बुद्धजीवि वर्ग जय शाह के बहाने अमित शाह पर निशाना साध रहे हैं, और कांग्रेस पर वंशवाद का आरोप लगाने वाले उनके बयानों की आलोचना कर रहे हैं।

जय शाह अमित शाह के बेटे हैं। उन्हें 2019 में बीसीसीआई का सचिव बनाया गया था। इसके बाद से ही उनकी नियुक्ति पर कई बार सवाल उठाए जा चुके हैं। अमूमन यह आरोप लगता रहता है कि जय शाह को बीसीसीआई में नियुक्ति सिर्फ इसलिए मिली है, क्योंकि वे गृह मंत्री के बेटे हैं।