MS Dhoni: PM मोदी टी 20 वर्ल्ड कप खेलने के लिए कह सकते हैं

Shoaib Akhtar: पाक क्रिकेटर शोएब अख़्तर ने कहा अगर प्रधानमंत्री मोदी कहेंगे तो एमएस धोनी चाह कर भी इंकार नहीं कर पाएंगे 

Updated: Aug 20, 2020 06:43 AM IST

MS Dhoni: PM मोदी टी 20 वर्ल्ड कप खेलने के लिए कह सकते हैं
photo courtesy : sportzwiki.com
MS Dhoni: PM मोदी टी 20 वर्ल्ड कप खेलने के लिए कह सकते हैं

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारतीय टीम के सफलतम कप्तानों में से एक महेंद्र सिंह धोनी को टी ट्वेंटी वर्ल्ड कप खेलने के लिए कह सकते हैं। यह कहना है विश्व क्रिकेट में अब तक के सबसे तेज़ गेंदबाज़ों में से एक शोएब अख्तर का। शोएब अख्तर ने कहा है कि उनको ऐसा लगता है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी धोनी को अगले साल भारत में होने वाले टी ट्वेंटी वर्ल्ड कप में खेलने के लिए कह सकते हैं। 

धोनी पीएम को मना नहीं करेंगे 
धोनी ने 15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। इसके बाद से ही उनके प्रशंसक धोनी के अचानक संन्यास ले लेने के फैसले से आश्चर्यचकित हैं। धोनी का आखिरी मैच न देख पाने की कसक प्रशंसकों द्वारा सोशल मीडिया पर ज़ाहिर की जा रही है। शोएब अख्तर भी धोनी के बहुत बड़े प्रशंसकों में से एक हैं। शोएब अख्तर का कहना है कि धोनी को फेयरवेल मैच मिलना चाहिए। हालांकि अख्तर का कहना है कि संन्यास लेने का फैसला धोनी ने खुद लिया है। लेकिन अगर प्रधानमंत्री मोदी धोनी से टी ट्वेंटी वर्ल्ड कप खेलने के लिए कहते हैं तो धोनी चाह कर भी मोदी को मना नहीं कर पाएंगे। 

बता दें कि धोनी ने अपना आखिरी मैच पिछले वर्ष इंग्लैंड में आयोजित हुए विश्व कप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेला था। इसके बाद पिछले एक साल में धोनी ने कोई भी अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेला। और 15 अगस्त को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी। 

जब इमरान ने ज़िया के कहने पर क्रिकेट में वापसी की थी 
क्रिकेट इतिहास में शोएब अख्तर के बयान के अनुरूप ही एक ऐसी घटना हुई है जब किसी राष्ट्र के अध्यक्ष कहने पर क्रिकेटर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी कर ली थी। बात 1987-88 की है, 87 का विश्व कप हारने के बाद पाकिस्तान क्रिकेट टीम के विश्व विजेता कप्तान इमरान खान ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट संन्यास ले लिया था। तब पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति ज़िया उल हक ने इमरान से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी करने के लिए कहा था। इमरान से ज़िया उल हक की बात मान ली। और पाकिस्तान 1992 के विश्व कप में विश्व विजेता बन गया था।