Hariyali Teej 2020: हरियाली तीज का महत्व और पूजा विधि

सुहागन महिलाओं के लिए शुभ माना जाने वाला हरियाली तीज का त्योहार 23 जुलाई को मनाया जा रहा है। सावन मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरियाली तीज के साथ श्रावणी तीज, कजली तीज या मधुश्रवा तीज भी कहते हैं।

Publish: Jul 23, 2020 07:37 PM IST

Next 
शिव पार्वती की पूजा का विधान
1 / 3

1. शिव पार्वती की पूजा का विधान

शिव पुराण के अनुसार हरियाली तीज के दिन भगवान शिव और माता पार्वती का पुनर्मिलन हुआ था इसलिए इस दिन महिलाएं महादेव और माता पार्वती की पूजा-अर्चना करती हैं। पूजा के लिए पूजा घर को तोरण-मंडप से सजा कर मिट्टी में गंगाजल मिलाकर शिवलिंग, भगवान गणेश और माता पार्वती की प्रतिमा बनाएं। प्रतिमाओं को चौकी पर स्थापित करें। देवताओं का आह्वान करते हुए पूजन करें।देवी पार्वती को श्रृंगार की सामग्री, साड़ी, अक्षत्, धूप, दीप, गंध आदि अर्पित करें। शिव को धतूरा, अक्षत्, बेल पत्र, श्वेत फूल, गंध, धूप, वस्त्र आदि चढ़ाएं। इसके बाद हरियाली तीज की कथा सुनें।