राष्ट्रवाद पर सवाल, आखिर क्यों देनी उमा भारती को सफाई

मध्यप्रदेश के अखबारों में छपी तमाम ख़बरों का जायज़ा हम समवेत की ख़ास पेशकश समाचार सारांश में

Updated: Dec 28, 2021, 08:28 AM IST

अब अलग अलग अखबार पढ़ने से मुक्ति। हम समवेत के 'समाचार सारांश' में सुनिए एमपी के अखबारों में छपी खबरें एक साथ। यहां आपको मिलेगी वो खबरें जो आपके लिए जानना महत्वपूर्ण हैं।

पिछड़ा वर्ग आरक्षण पर बोली उमा भारती


पंचायत चुनावों में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को लेकर सवाल उठे तो पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को सफाई देनी पड़ी है। उमा ने कहा कि यदि मैंने पिछड़ों के हित में बोलना छोड़ दिया तो देश, भाजपा और हिंदुत्व का नुकसान होगा।


15 लाख तक का भ्रष्टाचार स्वीकार 

रीवा के सांसद जनार्दन मिश्रा ने सरपंचों को 15 लाख के भ्रष्टाचार को भ्रष्टाचार नहीं माना है। उनका कहना है कि सरपंच सात लाख तो चुनाव में लगाता है और सात लाख अगले चुनाव के लिए चाहिए और एक लाख महंगाई के चाहिए। 

बीजेपी की बैठक में मंत्रियों की हाजरी

राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश ने बीजेपी कार्यालय में बैठक के दौरान मंत्रियों, सांसदों व विधायकों की गिनती कराई। राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष की बैठक में कई मंत्री नहीं पहुंचे थे। जबकि कुछ मंत्री देरी से आए थे। इस कारण गिनती करवाई गई।