कैलाश विजयवर्गीय किसके साथ, उमा भारती या शिवराज चौहान

Updated: Mar 26, 2022, 08:57 AM IST

 

पचमढ़ी में सरकार, चुनावी चिंतन

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपने मंत्रियों के साथ चिंतन बैठक करने शुक्रवार रात पचमढी पहुंच गए। मंत्रि परिषद 26 और 27 मार्च को दो दिन चिंतन करेंगे। इसमें आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश के आइडिया पर विचार किया जाएगा। साथ ही 2023 का रोडमैप तैयार किया जाएगा। सीएम ने कहा कि आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का लक्ष्य हमारा तय है। हम फिर से जनकल्याणरी योजनाओं की समीक्षा करेंगे। उन योजनाओं में सुधार की आवश्यकता होगी तो उनको चिन्हित करेंगे। पौने दो साल का रोडमैप बनाएंगे। सभी मंत्री बस से पचमढ़ी पहुंचे हैं, इस दौरान भी राजनीतिक सन्देश देने का काम हुआ है। 


शराबबंदी पर क्या बोले कैलाश विजयवर्गीय

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय भोपाल पहुंचे तो उनसे शराबबंदी पर सवाल हुआ। सभी यह जानने को उत्सुक थे कि वे शराबबंदी का पक्ष ले कर उमा भारती का साथ देते हैं या शिवराज सिंह चौहान सरकार के साथ रहते हैं। जवाब में कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि मध्य प्रदेश में शराबबंदी होनी चाहिए लेकिन इसके लिए जल्दबाजी नहीं करते हुए पहले उचित अध्ययन किया जाना चाहिए। प्रदेश की राजनीति में शराबबंदी का मुद्दा महत्वपूर्ण होता जा रहा है। एक ओर जहां प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती शराबबंदी लागू करने की मांग कर रही हैं, वहीं दूसरी ओर प्रदेश सरकार ने 2022-23 की नई आबकारी नीति में शराब से राजस्व में बढ़ोतरी के कई उपाय किए हैं। शराबबंदी के समर्थन में प्रतीकात्मक तौर पर एक शराब की दुकान में उमा भारती द्वारा हाल ही पत्थर फेंके जाने की घटना पर टिप्पणी करने से विजयवर्गीय ने इंकार कर दिया।

अरुण यादव की सक्रियता के चर्चे

प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव की सक्रियता की चर्चा है। खबर है कि अरुण यादव अब पार्टी की मुख्यधारा में लौटेंगे। वे अप्रैल से जिलों का दौरा प्रारंभ करेंगे। इस दौरान पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर संगठन के विस्तार और वर्ष 2023 में होने वाले विधानसभा प्रदेश कांग्रेस काय चुनाव की तैयारियों को लेकर बात करेंगे। यादव ने पार्टी की अध्यक्ष ने सोनिया गांधी से मुलाकात की थी। इसके बाद से उनकी सक्रियता को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं।