छत्तीसगढ़ में तेजी से पांव पसार रहा ब्लैक फंगस, 3 नए मरीजों के साथ कुल मरीजों की संख्या हुई 101

छत्तीसगढ़ में 101 मरीज ब्लैक फंगस की चपेट में, म्यूकर माइकोसिस से हो चुकी है एक मरीज की मौत , कोरोना से रिकवर हो चुके मरीजों को जद में ले रहा फंगस

Updated: May 21, 2021, 01:10 PM IST

छत्तीसगढ़ में तेजी से पांव पसार रहा ब्लैक फंगस, 3 नए मरीजों के साथ कुल मरीजों की संख्या हुई 101
Photo courtesy: Naidunia

रायपुर। कोरोना की मार झेल रहे छत्तीसगढ़ में ब्लैक फंगस के मरीजों के मिलने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। बीते 24 घंटों में बिलासपुर में ब्लैक फंगस के तीन मरीजों की पुष्टि हुई है। इसी के साथ ब्लैक फंगस के कुल मरीजों की संख्या 101 तक पहुंच गई है। नए तीनों मरीजों को बिलासपुर के सिम्स और अपोलो अस्पताल में दाखिल किया गया है। ब्लैक फंसग का एक मरीज बिलासपुर से वहीं दो अन्य मरीज अकलतरा और अनूपपुर से मिले हैं। तीनों मरीजों के कोरोना से ठीक होने के बाद अब उनपर ब्लैक फंगस ने धावा बोल दिया है।

अकलतरा की 55 वर्षीय महिला में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। महिला की आंखों तक फंगस पहुंच चुका है। ब्लैक फंगस की पुष्टि होने पर पीड़ित महिला को सिम्स में दाखिल कर लिया गया है। इस महिला की कोरोना रिपोर्ट करीब 10 पहले पाजिटिव आई थी। वहीं दूसरी महिला गौरेला की निवासी है, उसका कहना है कि एक महीने पहले उसे कोविड हुआ था। कोरोना से ठीक होने के बाद कुछ दिन बाद ही उसके दांतों में दर्द शुरू हुआ। जब उसने दातों की जांच करवाई को उसके नाक के भीतरी हिस्से में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है। अब सिम्स में अस्पताल में महिला की नाक की सर्जरी की गई है।

महिला की हालत स्थिर है। गौरतलब है कि पिछले पांच दिनों में ब्लैक फंगस के 10 मरीज सामने आए थे। अब तीन और नए मरीज मिले हैं। बिलासपुर के सिम्स अस्पताल में 7 मरीजों का इलाज किया जा रहा है। 2 मरीजों की गंभीर स्थिति के मद्देनजर उन्हें रायपुर रेफर किया गया है।

और पढ़ें: ब्लैक फंगस की दवा बनाने के लिए पांच कंपनियों को मिली मंजूरी, एंटी फंगस इंजेक्शन के उत्पादन में आएगी तेज़ी

दरसअल कोरोना से रिकवर हुए ऐसे मरीज जो शुगर पेशेंट हैं उनमें ब्लैक फंगस तेजी से फैल रहा है। एक्सपर्ट्स का कहना है कि उन्हें कोरोना इलाज में दी जाने वाली स्टीरॉइड्स की वजह से इस ब्लैक फंगस का संक्रमण हो रहा है। हरियाणा, राजस्थान सरकार ने ब्लैक फंगस को  महामारी घोषित कर दिया है।

और पढ़ें: खतरा: अब व्हाइट फंगस ने दी दस्तक, यह ब्लैक फंगस से ज्यादा घातक, पटना में मिले मरीज

गौरतलब है कि केंद्र ने राज्यों से ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने को कहा है।देश के कई हिस्सों में ब्लैक फंगस तेजी से बढ़ा है। जो की अब लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। इसके समुचित इलाज के लिए केंद्र सरकार ने पांच कंपनियों को ब्लैक फंगस की दवा बनाने की मंजूरी प्रदान कर दी है। पहले केवल 6 फार्मा कंपनियां इसकी दवा बना रही थीं। पांच नई कंपनियों की मंजूरी के बाद अब कुल 11 कंपिनयां दवा बना रही हैं। जिससे माना जा रहा है कि मरीजों के इलाज में तेजी से आएगी।