छत्तीसगढ़ सरकार ने 50 लाख कोरोना वैक्सीन का ऑर्डर दिया, 250 करोड़ की आएगी लागत

भूपेश सरकार ने वैक्सीन की 50 लाख खुराक का दिया आर्डर, जुलाई के आखिरी सप्ताह में छत्तीसगढ़ आ सकती है कोवैक्सीन, कोवीशील्ड निर्माताओं ने नहीं दी है डिलेवरी की तारीख, 1 मई से शुरू होगा वैक्सीनेशन, फिलहाल केंद्र से मिले टीकों से हो रहा है वैक्सीनेशन

Updated: Apr 28, 2021, 07:39 PM IST

छत्तीसगढ़ सरकार ने 50 लाख कोरोना वैक्सीन का ऑर्डर दिया, 250 करोड़ की आएगी लागत
Photo courtesy: The Hindu Business Line

रायपुर। छत्तीसगढ़ में कोरोना वैक्सीनेशन के तीसरे चरण की तैयारी जारी है। सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को 50 लाख वैक्सीन का आर्डर सरकार ने दे दिया है। इन वैक्सीन का उपयोग सरकारी अस्पतालों में होने वाले नि:शुल्क टीकाकरण में किया जाएगा। कोवैक्सिन बनाने वाली भारत बायोटेक का कहना है कि जुलाई के अंतिम सप्ताह से पहले टीका नहीं दे पाएगी। वहीं कोवीशील्ड बनाने वाले सीरम इंस्टीट्यूट की ओर से कोई जवाब नहीं आया है। दोनों वैक्सीन की 25-25 लाख खुराक मंगाई गई हैं। छत्तीसगढ़ सरकार लगातार केंद्र की दर पर कोरोना टीका प्रदेश सरकार को भी देने की मांग कर रही है। इसके लिए मुख्यमंत्री केंद्र को पत्र लिख चुके हैं।

केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार 18 से 45 साल के लोगों को इसके लिए पहले से वैक्सीनेशन करवाना जरूरी होगा। केवल कोविन एप और आरोग्य सेतु एप पर ही ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होगा। ऑन-साइट रजिस्ट्रेशन का आप्शन फिलहाल नहीं रखा गया है।

और पढ़ें : प्रियंका गांधी ने लोगों के नाम लिखा भावुक पत्र, कहा, हम होंगे कामयाब

फिलहाल केंद्र से मिली कोरोना वैक्सीन की डोज में से ही कुछ टीके प्रदेश के निजी अस्पतालों की डिमांड के अनुसार दी जा रही है। इसके लिए निजी संस्थाओं से पेमेंट लिया जा रहा है। खबर है कि केंद्र सरकार के निर्देशानुसार 1 मई 2021 से किसी भी निजी संस्था को वैक्सीन देने की मनाही होगी। तीसरे चरण में निजी संस्थानों को वैक्सीन उत्पादकों से सीधे वैक्सीन खरीदना पड़ेगा। एक मई से सभी पात्र नागरिकों का वैक्सीनेशन होगा।

दरअसल जो प्राइवेट अस्पताल जो पहले से ही कोविन एप में रजिस्टर्ड हैं उन्हें दोबारा रजिस्ट्रेशन की जरूरत नहीं होगी। तीसरे चरण के वैक्सीनेशन में औद्योगिक संस्थान भी खुद वैक्सीन उत्पादकों से सीधे टीके खरीद सकेंगे। और अपने कर्मचारियों और उनके परिजनों का वैक्सीनेशन करवा सकेंगे।

ऐसे इंडस्ट्रियल आर्गनाइजेशन जिनके अस्पताल हैं, उनका कोविन एप पर रजिस्ट्रेशन औद्योगिक संस्था कोविड वैक्सीनेशन सेंटर के रूप में हो सकता है।

दरअसल कोविशील्ड 400 रुपए प्रति डोज और कोवैक्सीन 600 रुपए प्रति खुराक की दर पर खरीदी जा रही हैं। सरकार ने टीकाकरण शुरू करने के लिए बुकिंग करवा ली है। इन दोनों टीकों पर छत्तीसगढ़ सरकार करीब 250 करोड़ रुपए खर्च कर रही है।  कोविशील्ड 400 रुपए की दर से मिलेगी,  25 लाख वैक्सीन के लिए 100 करोड़ रुपए खर्च होंगे। जबकि 600 रुपए में मिलने वाली कोवैक्सीन की 25 लाख खुराक के लिए150 करोड़ रुपए की लागत आएगी। प्रदेश में सरकारी केंद्रों में मुफ्त में वैक्सीन लगाई जाएगी।