Honda VRS Scheme: 40 से ऊपर के कर्मचारियों को होंडा देगी VRS, कोरोना काल में घटी बिक्री का हवाला

होंडा मोटर्स की यह VRS स्कीम निदेशक स्तर के कर्मचारियों को छोड़कर स्थाई कर्मचारियों के लिए है, सबसे पहले VRS लेने वाले 400 कर्मचारियों को 5 लाख रुपए अतिरिक्त मिलेंगे

Updated: Jan 07, 2021, 01:14 AM IST

Honda VRS Scheme: 40 से ऊपर के कर्मचारियों को होंडा देगी VRS, कोरोना काल में घटी बिक्री का हवाला
Photo Courtesy: ET auto

नई दिल्ली। भारत में दोपहिया वाहन का निर्माण करने वाली दूसरे नंबर की सबसे बड़ी कंपनी होंडा मोटर्स अपने कर्मचारियों के लिए Voluntary Retirement Scheme यानी स्वेच्छिक सेवानिवृति योजना लेकर आई है। कम्पनी की यह योजना उच्च पदों यानी निदेशक स्तर के कर्मचारियों के लिए नहीं है। कंपनी ने यह स्कीम अपने स्थायी कर्मचारियों जिन्होंने दस साल से अधिक की सेवा दी है या जो 31 जनवरी 2021 तक 40 की उम्र को पार कर रहे हैं, उनके लिए लॉन्च की है।  

अपने कर्मचारियों को जारी एक नोटिस में कंपनी ने कहा है कि अपनी सेवा देने की अवधि के आधार पर वाइस प्रेसिडेंडट या सीनियर मैनेजर 72 लाख रुपए प्राप्त कर पाएंगे। इसके साथ ही मैनेजर 67 लाख, डिप्टी मैनेजर 48 लाख, असिस्टेंट मैनेजर 36 लाख, सीनियर एक्सेक्यूटिव 31 लाख मिलेंगे।   कम्पनी ने अपने नोटिस में इस बात का भी ज़िक्र किया है कि VRS योजना का लाभ उठाने वाले सबसे पहले 400 कर्मचारियों को अतिरिक्त 5 लाख  रुपए मिलेंगे।  

होंडा यह स्कीम क्यों लेकर आई है 

दरअसल कोरोना काल में लगभग ज़्यादातर कंपनियों का कारोबार प्रभावित हुआ है। होंडा मोटर्स भी इससे अछूती नहीं रही है। होंडा मोटर्स ने कर्मचारियों के लिए जारी किए अपने नोटिस में कहा है कि कम्पनी अपनी दीर्घकालिक व्यापार क्षमता को बढ़ाने के लिए अपनी प्रोडक्शन स्ट्रेटेजी को सुनियोजित करने और परिचाल क्षमता (Operational Efficiency) में सुधार लाने के लिए यह योजना लेकर आई है। कम्पनी ने अपने बयान में कहा है कि भारत का ऑटो उद्योग पिछले तीन वर्षों से आसाधारण चुनौतीपूर्ण दौर से गुज़र रहा है। कम्पनी ने कहा इन सालों में दो पहिया वाहनों की बिक्री में कमी आई तो है ही लेकिन कोविड 19 आर्थिक चुनौतियां का सबसे बड़ा कारण बनकर उभरा है। 

एक रिपोर्ट के मुताबिक देश भर में होंडा के चार प्लांट में लगभग 7 हज़ार कर्मचारी काम करते हैं। अंग्रेजी के एक अखबार ने यूएस सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज कमिशन के हवाले बताया है कि अप्रैल और नवंबर के बीच, चालू वित्त वर्ष के इन पहले आठ महीनों में होंडा मोटर्स एंड स्कूटर्स इंडिया (HMSI) की बिक्री 32% से 2.4 मिलियन यूनिट तक गिर गई। जबकि मोटरसाइकिल और स्कूटर की बिक्री में लगभग 25 फीसदी तक की गिरावट आई है। 

हालांकि एक दिन पहले ही खबर यह भी थी कि होंडा मोटरकॉर्प की बिक्री में लगभग तीन फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। दिसंबर के महीने में हीरो मोटोकॉर्प की घरेलू बिक्री पिछले साल के मुकाबले लगभग 13 हज़ार की बढ़ोत्तरी हुई। मीडिया रिपोर्यट्हस के मुताबिक बिक्री का यह आंकड़ा इस साल 4,25,033 है जबकि पिछले साल दिसंबर में 4,12,009 यूनिट की ही बिक्री हुई थी।