अस्पताल से घर पहुंचे दिलीप कुमार, पत्नी सायरा बानो ने कहा रंग लाईं फैंस की दुआएं

98 साल के ट्रेजडी किंग दिलीप कुमार की अस्पताल से छुट्टी, 6 दिन अस्पताल में थे भर्ती, फेफड़ों में भर गया था पानी, हेल्थ में सुधार के बाद किया गया हॉस्पिटल से डिस्चार्ज

Updated: Jun 11, 2021, 03:32 PM IST

अस्पताल से घर पहुंचे दिलीप कुमार, पत्नी सायरा बानो ने कहा रंग लाईं फैंस की दुआएं
Photo courtesy: twitter

मुंबई। दिग्गज एक्टर दिलीप कुमार को शुक्रवार दोपहर हिंदुजा अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। जिसके बाद उन्हें एम्बुलेंस से उनके बंगले पर ले जाया गया। हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होते समय उनकी पत्नी सायरा बानो साथ में थीं।  6 जून को दिलीप कुमार को मुंबई के पीडी हिंदूजा हॉस्पिटल में दाखिल किया गया था। उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी। उनका आक्सीजन लेवल कम हो गया था। उनके फेफड़ों में पानी भर गया था। अस्पताल से छुट्टी के बाद उन्हें बांद्र के पाली हिल स्थित उनके बंगले ले जाया गया है।

 

दिलीप कुमार की सेहत के बारे में सायरा बानो ने कहा कि उनकी फेफड़े का पानी निकल चुका है। अच्छी तरह से आराम होने के बाद अब उन्हें छुट्टी दी गई है। दिलीप कुमार के डॉक्टरों ने उन्हें घर में भी सावधानी बरतने और एंटी-बायोटिक्स देने को कहा है। दिलीप कुमार के ट्विटर हैंडल से भी उनके अस्पताल से छुट्टी होने की खबर शेयर की गई है। ट्वीट में लिखा है कि "आप सभी लोगों की दुआ और प्रार्थना के साथ दिलीप कुमार हॉस्पिटल से अपने घर जा रहे हैं। आप लोगों का असीमित प्यार और स्नेह हमेशा साहब के दिल को छू जाता है।"

वहीं अस्पताल से छुट्टी के वक्त सायरा बानो साथ में थीं। उन्होंने कहा कि आप सभी की दुआएं काम आईं, आगे भी आप लोग उनके लिए दुआ कीजिए। दिलीप साहब के लिए दुआ करनेवाले सभी लोगों की मैं बहुत शुक्रगुजार हूं।" दरअसल रविवार से दिलीप कुमार को आक्सीजन दी जा रही थी। उन्हें सांस लेने में परेशानी थी जिससे ऑक्सीजन स्तर गिरता जा रहा था। बुधवर को माइनर सर्जरी के बाद उन्हें ICU वॉर्ड में शिफ्ट किया गया था। ट्रेजडी किंग की माइनर सर्जरी डॉक्टर नितिन गोखले और डॉक्टर जलील पारकर की निगरानी में हुआ। इस सर्जरी से फेफड़ों में जमा कफ, सांस लेने की परेशानी और सीने में दर्द ठीक होता है। बॉलीवुड में एक से बढ़कर एक फिल्में देने वाले एक्टर दिलीप कुमार को दादा साहेब फाल्के समेत कई अवार्ड्स से नवाजा जा चुका है। उन्हें पाकिस्तान के सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज से भी सम्मानित किया जा चुका है।

11 दिसंबर 1922 को पाकिस्तान में जन्मे दिलीप कुमार का असली नाम यूसुफ खान है। लेकिन फिल्मी दुनिया में वे दिलीप कुमार के नाम से मशहूर हैं। उन्होंने 50 से ज्यादा फिल्मों में काम किया है। वे फिल्मों की क्वांटिटी से ज्यादा क्वालिटी पर भरोसा करते थे। एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि आपके पास एक डलिया खिलौने बेचेने के लिए हैं। अगर आप बाजार में लंबे समय तक टिके रहना चाहते हैं तो एक-एक करके अपने खिलौने बेचें, एक साथ नहीं। उनकी सुपर हिट फिल्मों में ज्वार भाटा, अंदाज, आन , देवदास, आजाद,  मुगल-ए-आजम, गंगा जमुना, गोपी, कर्मा, सौदागर जैसी फिल्में हैं।