मध्यप्रदेश में हो रहा मूंग की खरीदी के लिए पंजियन, 15 जून से 90 दिन तक होगी खरीदी

प्रदेश के किसान 15 जून से बेच सकेंगे मूंग की फसल, 7 हजार 196 रुपए प्रति क्विंटल की दर से होगी खरीदी, मध्यप्रदेश के 25 जिलों में करीब 4 लाख 77 हजार हेक्टेयर में होती है ग्रीष्म-कालीन मूंग की फसल

Updated: Jun 09, 2021, 01:11 PM IST

मध्यप्रदेश में हो रहा मूंग की खरीदी के लिए पंजियन, 15 जून से 90 दिन तक होगी खरीदी
Photo courtesy: Bhaskar

भोपाल। प्रदेश सरकार इस साल समर्थन मूल्य में मूंग की खरीदी करने जा रही है। जिसके लिए किसानों के पंजियन का काम 8 जून से शुरु हो चुका है। वहीं समर्थन मूल्य पर खरीदी केंद्रों में मूंग खरीदी 15 जून से शुरू होगी। जो की 13 सितंबर तक कुल 90 दिनों तक होगी। इस साल मूंग का समर्थन मूल्य 7196 तय किया गया है। मंगलवार को मुख्यमंत्री ने मूंग और उड़द खरीद के पंजियन की वर्चुअल शुरुआत की।

इस मौके पर कृषि मंत्री कमल पटेल भी मौजूद थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि मूंग खरीदी का निर्णय किसानों के हितो के संरक्षण और कल्याण के उद्देश्य से लिया गया हैं। उन्होंने कहा कि खेती को लाभ का धंधा बनाना और किसानों की आय दो गुना करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है।

दरअसल मध्यप्रदेश में क्षेत्रफल और अच्छे उत्पादन की संभावना के मद्देनजर कृषि विभाग ने डेढ़ लाख टन मूंग की खरीद का प्रस्ताव केंद्रीय कृषि मंत्रालय को भेजा था, लेकिन केंद्र से कम खरीदी की अनुमति मिली।

सरकार का मानना है कि बाजारों में कम दाम मिलने से किसान परेशान ना हों। अब समर्थन मूल्य पर खरीदी से किसानों को अच्छी कीमत मिलेगी। बड़े स्तर पर मूंग खरीदी बरसात में हो रही है। इसके लिए पर्याप्त इंतजाम किया जा रहा है। मूंग उन्हीं केंद्रों पर होगी जहां बड़ी मात्रा में फसल को सुरक्षित रखने की व्यवस्था होगी।

हर जिले में पर्याप्त स्थान पर खरीदी केंद्र खोले जाएंगे। वहीं फसल बेचने आने वाले किसानों से कोरोना गाइड लाइन का पालन करने उपार्जन केंद्रों में अधिक भीड़ नहीं लगाने की अपील की गई है। किसानों को मास्क लगाकर आने और दो गज की दूरी अपनाने की सलाह दी गई है।  

प्रदेश के 25 जिलों में करीब चार लाख 77 हजार हेक्टेयर में ग्रीष्म-कालीन मूंग की फसल का उत्पादन होता है। इस साल करीब 6 लाख 56 हजार मीट्रिक टन मूंग उत्पादन की संभावना है।