फाइज़र कंपनी का दावा, ट्रायल में कोरोना वैक्सीन 90 फीसदी से ज्यादा असरदार

Corona Vaccine: अमेरिकी दवा कंपनी Pfizer ने किया उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन, राष्ट्रपति ट्रम्प ने बताया बहुत बड़ी खबर, जल्द बिक्री के लिए मिलेगी मंजूरी

Updated: Nov 10, 2020, 11:45 AM IST

फाइज़र कंपनी का दावा, ट्रायल में कोरोना वैक्सीन 90 फीसदी से ज्यादा असरदार
Photo Courtesy : Bioworld

वॉशिंगटन। कोरोना महामारी से जूझ रहे विश्व के लिए वैक्सीन के क्षेत्र में एक राहत की खबर है। अमेरिकी फार्मा कंपनी फाइजर (Pfizer) और जर्मनी की बायोटेक फर्म बायोएनटेक (BioNTech) ने मिलकर कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन तैयार कर लिया है। कंपनी ने बताया है कि शुरुआती नतीजों में यह वैक्सीन 90 फीसदी से ज्यादा असरदार साबित हुई है। इसी के साथ दुनियाभर के लोगों द्वारा लंबे समय से किया जा रहा वैक्सीन का इंतजार अब खत्म होने जा रहा है। 

कंपनी ने सोमवार को बताया है कि उसकी वैक्सीन ट्रायल के दौरान 94 संक्रमितों में 90 प्रतिशत कारगर पाई गई है। इन संक्रमितों में कोविड-19 के कम से कम 1 लक्षण जरूर थे। अभी वैक्सीन ट्रायल के ही चरण में है लेकिन नतीजे उम्मीद जगा रहे हैं कि जल्द ही दुनियाभर में इसके इस्तेमाल का रास्ता साफ हो सकता है। उम्मीद किया जा रहा है कि जल्द ही इसे बिक्री के लिए मंजूरी भी दे दी जाएगी। 

और पढ़ें: रूस ने दूसरी वैक्सीन को शुरुआती ट्रायल के बाद दी मंजूरी, विशेषज्ञों ने जताई चिंता

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इसे बहुत बड़ी खबर बताई है। ट्रम्प ने ट्वीट कर कहा है कि वैक्सीन जल्द आ रही है। 90 प्रतिशत कारगर पाई गई है। 

 

 

वैक्सीन निर्माता कंपनी फाइजर के चेयरमैन और सीईओ डॉ अल्बर्ट बौरला ने इसे लेकर कहा कि आज का दिन मानवता और विज्ञान दोनों के लिए काफी महत्वपूर्ण है। डॉ अल्बर्ट बोरला ने कहा कि हमारे तीसरे चरण के ट्रायल के पहले सेट में कुछ ऐसे सबूत मिलने है जिससे यह पता चलता है कि यह कोरोना वायरस को रोकने में प्रभावी है। कंपनी का दावा है कि यह वैक्सीन उन लोगों पर भी कारगर पाई गई है जिनमें कोरोना के लक्षण नहीं थे।

और पढ़ें: भारत को साल के अंत तक मिल सकती है कोरोना वैक्सीन, DGCI ने Sputnik V के ट्रायल को दी मंजूरी

कंपनी ने बताया है कि इस साल के अंत तक इस वैक्सीन का वैश्विक स्तर पर करीब पांच करोड़ डोज तैयार कर लिया जाएगा। वहीं साल 2021 के अंत तक 1.3 अरब डोज तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है। बताया जा रहा है कि इसके टीके को अबतक छः देशों के 45,500 लोगों पर परीक्षण किया जा चुका है जिसमें सुरक्षा के लिहाज से कोई चिंता की बात सामने नहीं आई है।