तालिबानी हुकूमत में काले दिनों की वापसी, महिलाओं के बारे में पूछने पर ठहाके मारने लगे लड़ाके

अफगानिस्तान में महिलाओं पर पाबंदी, बिना हिजाब के दिखे तो मारे जाएंगे, राजनीति में महिलाओं की भागीदारी के सवाल पर छूटी तालिबानी लड़ाकों की हंसी

Updated: Aug 18, 2021, 12:18 PM IST

तालिबानी हुकूमत में काले दिनों की वापसी, महिलाओं के बारे में पूछने पर ठहाके मारने लगे लड़ाके

काबुल। अफगानिस्तान में तालिबानी हुकूमत की वापसी के साथ ही महिलाओं के लिए काले दिन भी लौट आए हैं। देश में अब महिलाओं पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी गई हैं, यहां तक कि बिना हिजाब पहने बाहर निकलने पर महिलाओं को तालिबानी लड़ाके गोली मार दे रहे हैं। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इसमें महिलाओं के बारे में पूछने पर तालिबानी लड़ाके ठहाके मारने लगते हैं।

दरअसल, यह वीडियो महिला पत्रकार को दिए कुछ तालिबान लड़ाकों के इंटरव्यू का है। वीडियो में महिला पत्रकार पूछती हैं कि क्या उनके शासन में अफगानिस्तान में महिलाओं के अधिकारों का सम्मान किया जाएगा। इसपर लड़ाके जवाब देते हैं कि इस्लामिक कानून यानी शरिया के मुताबिक ही महिलाओं को अधिकार होंगे। 

इसके बाद महिला पत्रकार पूछती हैं कि क्या अफगानिस्तान के नागरिक किसी महिला को वोट देकर सत्ता में ला सकते हैं? यह सवाल सुनते ही तालिबानी लड़ाके जोर से ठहाके लगाने लगते हैं। इस दौरान ये लड़ाके कैमरा बंद करने के लिए कहते हैं। वीडियो में एक लड़ाका कहता है 'It made me laugh' यानी मुझे हंसी आ गई।

यह भी पढ़ें: भारत को साल 2027 तक मिल सकती है पहली महिला चीफ जस्टिस, SC कॉलेजियम ने भेजी 9 नामों की सिफारिश

बता दें कि कल ही तालिबान ने काबुल में पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। इस दौरान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा है की महिलाएं भी समाज में सक्रिय रहेंगी लेकिन इस्लामिक कानून के तहत ही उन्हें रहना होगा। अफगानिस्तान की पहली महिला मेयर ज़रीफा गफारी कहती हैं कि वह इंतजार कर रही हैं कि तालिबानी आएं और उन्हें मार डाले।