Kill Corona अभियान के शुभारंभ से स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा ही गायब

Corona से लड़नेे से ज्‍यादा राजनीति जरूरी, भोपाल में अभियान का आरंभ, स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा दिल्‍ली में साध रहे राजनीतिक समीकरण

Updated: Jul-01, 2020, 04:33 PM IST

Kill Corona अभियान के शुभारंभ से स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री नरोत्‍तम मिश्रा ही गायब

मध्‍य प्रदेश में बीजेपी के लिए कोरोना के फैलने और लोगों के मारे जाने से ज्‍यादा जरूरी राजनीति है। कांग्रेस आरोप लगाती है कि जब मार्च में कोरोना की आहट थी तब बीजेपी नेता कांग्रेस सरकार गिराने में लगे थे और अब भी स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ. नरोत्‍तम मिश्रा के लिए कोरोना नहीं मंत्रिमंडल विस्‍तार की राजनीति जरूरी है। यही कारण है कि जब एमपी में कोरोना से निपटने के लिए किल कोरोना अभियान आरंभ हुआ तक वे स्‍वास्‍थ्‍य विभाग के मंत्री होने के बाद भी कार्यक्रम में उपस्थित नहीं रहे। वे दिल्‍ली में राजनीतिक जमावट साध रहे थे।

एमपी में बीते चार दिनों से मंत्रिमंडल विस्‍तार की कवायद चल रही है। मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी दिल्‍ली में केंद्रीय नेताओं से विमर्श कर भोपाल लौट आए मगर गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा बीते तीन दिनों से दिल्ली में ही हैं। वे मंत्री मंडल विस्‍तार में उप मुख्‍यमंत्री की अपनी दावेदारी को किसी रूप में कमजोर नहीं होने देना चाहते हैं। इसलिए 1 जुलाई से प्रदेश में शुरू हुए 'किल कोरोना अभियान' में शामिल होने की जगह उन्‍होंने दिल्‍ली में रहना पसंद किया। सूत्रों के अनुसार वे राजनीतिक स्थितियों पर नजर रखे हुए हैं। यदि ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया के समर्थक तुलसी सिलावट को उप मुख्‍यमंत्री बनाया जाएगा तो वे भी उप मुख्‍यमंत्री पद की मांग रखेंगे। वे इस मौके को चूकना नहीं चाहते हैं।

इधर भोपाल में  कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान नेे 1 जुलाई से राज्य स्तरीय किल कोरोना अभियान की शुरुआत की है। इस अभियान की शुरुआत के दौरान 'सार्थक एप' लॉन्च किया गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि 15 दिवसीय अभियान के दौरान 11 हजार 458 टीमें घर-घर जाकर सर्वे करेंगी वहीं ढाई से तीन लाख सैंपल जांच किए जाएंगे। सीएम का दावा है कि इतने बड़े पैमाने पर देशभर में कहीं सर्वे नहीं हुआ है। 

बुधवार को डॉक्टर्स डे के मौके पर भोपाल में सांसद प्रज्ञा ठाकुर, हुजूर विधायक रामेश्वर शर्मा और गोविंदपुरा विधायक कृष्णा गौर की मौजूदगी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्यस्तरीय किल कोरोना अभियान की शुरुआत करने के दौरान कोरोना मंत्र दिए। उन्होंने कहा, 'दो गज की दूरी, चेहरे पर मास्क जरूरी।' उन्होंने आगे कहा, 'अनलॉक के दौरान बाजार खुले हैं क्योंकि इसके बगैर जिंदगी चलना संभव नहीं है। लेकिन बाहर निकलने पर हमें जरूर मास्क लगाना होगा और सोशल डिस्टेनसिंग के निर्देशों का पालन करना होगा। ये लड़ाई कोरोना से है। हारेगा कोरोना - भागेगा कोरोना।'

डोर-टू-डोर होगा सर्वे, 3 लाख सैंपल की होगी जांच

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम के दौरान बताया कि किल कोरोना अभियान के तहत प्रदेश भर में डोर-टू-डोर सर्वे किया जाएगा। इस कार्य के लिए 11 हजार 458 टीमें लगाई गई है जिन्हें नॉन कॉन्टेक्ट थर्मामीटर, पल्स ऑक्सिमिटर समेत अन्य प्रोटेक्टिव गियर मुहैया कराया गया है। अभियान के दौरान तकरीबन तीन लाख सैंपल की जांच होने की उम्मीद है। सर्वे के दौरान संदिग्धों को चिन्हित कर उनका सैंपल लिया जाएगा। प्रदेश में रोजाना 21 हजार टेस्ट किए जाने की क्षमता विकसित की जा रही है। इस दौरान औसत संक्रमन से अधिक संक्रमित वाले 13 जिलों में सघन चेकिंग होगी। 

सार्थक एप में दर्ज होगी जानकारी

किल कोरोना अभियान के तहत सर्वे के दौरान एसएआरआई/आईएलआई के संदिग्ध मरीजों के साथ-साथ मलेरिया, चिकनगुनिया, डेंगू आदि के संदिग्ध मरीजों को भी चिन्हित कर इनकी जानकारी सार्थक एप में दर्ज की जाएगी। कोविड-19 के संदिग्धों की जिनकी प्रविष्टि सार्थक ऐप पर की जाती है उन संबंधित क्षेत्रों में मेप्ड एमएमयू द्वारा सैंपलिंग की जाएगी। रोजाना चिन्हित किये गये संदिग्धों की सैंपलिंग के बाद उनकी टेस्टिंग आरटीपीसीआर और टीआरयूएनएटी के माध्यम से की जाएगी। 

आज #NationalDoctorsDay पर हमने मध्यप्रदेश में #KillCoronaAbhiyaan का शुभारंभ किया और Sarthak Lite एप्प का लोकार्पण किया।

यह #COVID19 के खिलाफ अब तक का सबसे बड़ा अभियान है। हमारे डॉक्टर्स और स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोगों के सहयोग से हम प्रदेश से कोरोना संक्रमण को खत्म करेंगे। pic.twitter.com/JriqNcAtSz

— Shivraj Singh Chouhan (@ChouhanShivraj) July 1, 2020