भिंड में मतदान शुरू होने से पहले एक युवक की गोली मारकर हत्या, इलाके में तनाव

मतदान से पहले हुई हत्या के चलते क्षेत्र में सनसनी, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मोर्चा संभाला, पुरानी रंजिश के चलते हुई बिल्लू चौहान नामक युवक की हत्या

Updated: Jun 25, 2022, 10:55 AM IST

भिंड में मतदान शुरू होने से पहले एक युवक की गोली मारकर हत्या, इलाके में तनाव

भिंड। चम्बल अंचल में पंचायत चुनाव हमेशा से चुनौती रहें हैं। खास कर पुलिस के लिए यह चुनाव कराना मुसीबत से कम नही रहा हैं। अंचल के भिंड में शायद ही कभी पंचायतों के चुनाव में ऐसा मौका आया हो जब, हिंसा देखने को न मिली हो। ऐसे में चुनाव के दौरान पुलिस के लिए शांति व्यवस्था कायम करना बेहद अहम और चैलेंजिंग हो जाता है। इस बार भी तमाम प्रयासों के बावजूद भिंड में चुनाव तक लगातार हिंसक घटनाएं हुईं।

शनिवार को वोटिंग शुरू होने से ठीक पहले भिंड में एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मतदान से पहले हुई हत्या के चलते क्षेत्र में सनसनी फैल गई। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मोर्चा संभाला। मामला भिंड जिले के आलमपुर क्षेत्र के रूरई गांव की घटना है। यहां आरोपियों ने पुरानी रंजिश के कारण बिल्लू चौहान नामक युवक की हत्या कर दी।

यह भी पढ़ें: सिंगरौली को सिंगापुर बनाने के वादे पर उठाया सवाल, कमलनाथ ने पूछा 18 साल में क्या किया शिवराज

मामले को लेकर एसडीओपी अवनीश बंसल का कहना है कि सात साल पहले सेंवडा में गांव के दो लोगों की हत्या हुई थी। इस मामले में बिल्लू हत्या का आरोपी था और एक साल पहले ही जमानत पर छूटा था। चौहान परिवारों की आपसी रंजिश में उसका क़त्ल हुआ है। बंसल का कहना है कि इस हत्या का पंचायत चुनाव से कोई सम्बंध नहीं है। लेकिन फिर भी इस ऐंगल से इसकी जांच की जा रही है। मृतक के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है।

बता दें कि मध्य प्रदेश में त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के तहत होने वाला पहले चरण का मतदान शनिवार सुबह से शुरू हो गया है। ये चुनाव बैलेट पेपर केे माध्यम से हो रहा है, जिसमें पहले की तरह मतदाता मुहर लगाकर प्रत्याशी का चयन कर रहे हैं। सुबह से ही गांवों में स्थित मतदान केंद्रों पर महिला, पुरुष और युवाओं की कतार नजर आ रही है।

यह भी पढ़ें: MP पंचायत चुनाव: पहले चरण के लिए वोटिंग शुरू, डेढ़ करोड़ मतदाता चुनेंगे गांव की सरकार

भिंड में चुनाव कराने के लिए 1000 अतिरिक्त जवानों का बल पुलिस अधीक्षक द्वारा मांगा गया था। साथ ही लगातार अपराधियों के खिलाफ धरपकड़ अभियान चलाया जा रहा था। जिले में 22 हजार से ज्यादा लाइसेंसी हथियार हैं, जिन्हें थानों में जमा करा लिया गया था। पुराने अपराधी, जिन्होंने पूर्व में चुनाव प्रभावित किए, उन्हें चिन्हित कर कार्रवाई की गई। इस सब प्रयासों के बावजूद अपराधी यहां प्रशासन को ठेंगा दिखाते नजर आ रहे हैं।