बुरहानपुर में AIMIM ने बिगाड़ा कांग्रेस का खेल, ओवैसी की एंट्री से बीजेपी को फायदा

मुस्लिम बाहुल्य बुरहानपुर नगर निगम में कांग्रेस मामूली अंतर से चुनाव हार गई है, यहां ओवैसी की पार्टी AIMIM ने कांग्रेस का समीकरण बिगाड़ दिया, कांग्रेस ने कहा कि आज फिर साबित हो गया की AIMIM किसके लिए काम करती है

Updated: Jul 17, 2022, 11:17 PM IST

बुरहानपुर में AIMIM ने बिगाड़ा कांग्रेस का खेल, ओवैसी की एंट्री से बीजेपी को फायदा

बुरहानपुर। मध्य प्रदेश के बुरहानपुर नगर निगम में कांग्रेस मामूली अंतर से चुनाव हार गई। यहां ओवैसी की पार्टी AIMIM ने कांग्रेस का खेल बिगाड़ दिया। बीजेपी की महापौर प्रत्याशी माधुरी पटेल कांग्रेस की शहनाज अंसारी को 542 वोटों से हराने से कामयाब रहीं। कांग्रेस ने इस हार पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि आज फिर स्पष्ट हो गया कि ओवैसी के मंसूबे क्या हैं।

चुनाव परिणाम में भाजपा प्रत्याशी माधुरी पटेल को 52,823 मत मिले, वहीं कांग्रेस प्रत्याशी शहनाज अंसारी को 52281 वोट मिले। एआइएमआइएम की प्रत्याशी को 10274 वोट प्राप्त हुए। इनके अलावा आप की उम्मीदवार को भीं 2221  मत मिले।

यह भी पढ़ें: निकाय चुनाव काउंटिंग लाइव: इंदौर-भोपाल में BJP को निर्णायक बढ़त, सिंगरौली नगर निगम में AAP का कब्जा

दरअसल, यहां चुनाव प्रचार में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मैदान में खूब पसीना बहाया था। बावजूद वह पार्टी को जीत दिलाने में नाकाम साबित हुए। कांग्रेस का खेल AIMIM प्रत्याशी ने बिगाड़ा जिन्हें 10 हजार 200 वोट प्राप्त हुई। AIMIM द्वारा कांग्रेस के वोटों के ध्रुवीकरण ने पार्टी को खूब नुकसान पहुंचाया।

बुरहानपुर में हार को लेकर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस प्रवक्ता अब्बास हफीज ने कहा कि, 'आज एक बार फिर स्पष्ट हो गया है कि ओवैसी किन मंसूबों के साथ मध्य प्रदेश आए थे। बुरहानपुर के नतीजे साफ दर्शाते हैं कि AIMIM बीजेपी की 'बी' टीम है। कांग्रेस पार्टी के आंतरिक सर्वे में पता चला था कि हम बुरहानपुर में 15 हजार वोट से लीड लेंगे। लेकिन वहां ओवैसी पहुंचे और उन्होंने अल्पसंख्यकों को भ्रमित किया। इस तरह वे ध्रुवीकरण में कामयाब हो गए जिसका बीजेपी को फायदा मिला। मुस्लिम मतदाताओं को यह साजिश समझने की जरूरत है। AIMIM को दिया हुआ हर एक वोट अप्रत्यक्ष रूप से बीजेपी को फायदा पहुंचाता है।'