पीएम मोदी के दौरे से पहले उज्जैन नगर निगम कमिश्नर पर गिरी गाज, चौक-चौराहे भगवा नहीं दिखे तो हटाया

पीएम मोदी के दौरे से पहले उज्जैन शहर के चौराहे, प्रमुख स्थलों की रंगाई-पुताई होनी थी, बुधवार को नगरीय प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह उज्जैन में तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे थे, उन्होंने इस दौरान कमिश्नर को जमकर फटकारा।

Updated: Oct 06, 2022, 02:10 PM IST

पीएम मोदी के दौरे से पहले उज्जैन नगर निगम कमिश्नर पर गिरी गाज, चौक-चौराहे भगवा नहीं दिखे तो हटाया

उज्जैन। "महकाल लोक" के लोकार्पण समारोह कि तैयारियां अंतिम चरण में है। 11 अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लोकार्पण समारोह के लिए उज्जैन आएंगे। कार्यक्रम से ठीक पांच दिन पहले उज्जैन नगर निगम कमिश्नर अंशुल गुप्ता पर गाज गिरी है। उन्हें निगम आयुक्त पद से हटा दिया गया है। 

दरअसल, राज्य सरकार इस कार्यक्रम का भव्य आयोजन के लिए करोड़ों रुपए पानी की तरह बहा रही है। ताकि कोई भी कमी नहीं छूट जाए। बुधवार को तैयारियों का जायज़ा लेने नगरीय प्रशासन मंत्री उज्जैन गए थे। मंत्रीजी यहां इस बात पर भड़क गए कि उज्जैन शहर के चौराहे, प्रमुख स्थलों की भगवा रंग से पुताई नहीं हुई थी। 

यह भी पढ़ें: रीवा में बड़ा हादसा, 40 श्रद्धालुओं से भरी ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटी, 3 की मौत

बताया जा रहा है कि वह निगम कमिश्नर को इसी बात को लेकर फटकारने लगे। हालांकि, गुप्ता ने उन्हें कहा कि कार्यक्रम के पहले रंगाई पुताई हो जाएगी। बावजूद उनकी नाराजगी कम नहीं हुई। चूंकि, कार्यक्रम के केवल पांच दिन बचे हैं और अब तक पुताई का काम शुरू भी नहीं हुआ था। राज्य सरकार ने इसे गंभीर लापरवाही मानते हुए अंशुल गुप्ता को पद से हटाने का आदेश जारी कर दिया।

बता दें कि बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी अपनी पत्नी साधना सिंह के साथ उज्जैन पहुंचे थे। यहां उन्होंने बाबा महाकाल की विशेष पूजा अर्चना की और शाही सवारी में भी सम्मलित हुए। उज्जैन प्रवास के दौरान सीएम चौहान के काफिले के बीच अचानक कई गौवंश आ गए थे। हालांकि, इस दौरान कोई दुर्घटना नहीं हुई। विपक्षी दल कांग्रेस का कहना है कि इसी वजह से गुस्सा होकर सीएम ने निगम आयुक्त को हटा दिया।