बीजेपी कार्यालय के बाहर लगे प्रज्ञा की गुमशुदगी के पोस्टर्स, ढूंढनेवाले के लिए इनाम की घोषणा

NSUI मेडिकल विंग ने चस्पा किया बीजेपी कार्यालय के बाहर भोपाल सांसद के लापता होने का पोस्टर, एनएसयूआई का दावा लाख ढूंढने के बाद भी नहीं मिल रही हैं सांसद

Updated: Apr 16, 2021, 08:09 PM IST

बीजेपी कार्यालय के बाहर लगे प्रज्ञा की गुमशुदगी के पोस्टर्स, ढूंढनेवाले के लिए इनाम की घोषणा

भोपाल। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल से बीजेपी की बड़बोली सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर एक बार फिर सुर्खियों में हैं। इस बार वो अपने विवादित बयान की वजह से चर्चा में नहीं हैं, बल्कि अपनी गुमशुदगी की खबर से सुर्खियां बटोर रही हैं। बीजेपी सांसद के लापता होने की जानकारी बाकायदा मध्यप्रदेश बीजेपी मुख्यालय में पोस्टर चस्पा कर दी गई है। इतना ही नहीं पोस्टर के माध्यम से इस बात की भी घोषणा की गई है कि जो कोई भी लापता सांसद को ढूंढ लाएगा उसे इनाम दिया जाएगा।

दरअसल, इस पोस्टर को बीजेपी कार्यलय के बाहर भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन कि मेडिकल विंग ने लगाई है। मेडिकल विंग ने यह पोस्टर इसलिए लगाई है क्योंकि राजधानी में हर रोज ऑक्सीजन, रेमेडसीवीर वैक्सीन व अन्य मेडिकल सुविधाओं की कमी और अस्पतालों में समय पर इलाज न मिलने के कारण दर्जनों मौतें हो रहीं हैं। बावजूद इसके लोकसभा क्षेत्र की निर्वाचित सांसद प्रज्ञा ठाकुर गायब हैं। 

एनएसयूआई मेडिकल विंग ने इस पोस्टर पर एक दिलचस्प लाइन लिखी है। पोस्टर पर लिखा है कि, 'कोरोना महामारी में भोपाल की व्यवस्था हो गई ध्वस्त। जनता ने जिनको चुना है सांसद वो हैं अपनी मस्ती में मस्त।' इस तरह के पोस्टर शुरुआत में तो सिर्फ बीजेपी कार्यलय के बाहर लगाए गए थे, लेकिन कोई खोजखबर नहीं मिलती देख मेडिकल विंग ने पूरे लोकसभा क्षेत्र में लगाना शुरू कर दिया है।

इस मामले पर हम समवेत ने जब एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार से बात की तो उन्होंने बताया कि जबसे भोपाल में कोरोना की दूसरी लहर ने भयावह रूप धारण किया है तब से भोपाल सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर न जाने कहां लापता हो गईं हैं। परमार ने कहा, 'मैने अपने स्तर पर सांसद को ढूंढने का बहुत प्रयास किया, साथ ही हमारी टीम ने भी पूरे लोकसभा क्षेत्र में सर्च अभियान चलाया लेकिन हम असफल रहे।'

परमार ने आगे कहा कि, 'जैसे सुरक्षाबलों के आने पर आतंकी छिप जाते हैं, उसी तरह भोपाल वासियों पर आपदा आने पर सांसद प्रज्ञा ठाकुर छिप जाती हैं। जिस तरह कोई सुराग नहीं मिलने पर सुरक्षाबलों द्वारा पोस्टर जारी कर इनाम की घोषणा की जाती है उसी प्रकार हमने भी सोचा की शायद इनाम की घोषणा के बाद उन्हें ढूंढने में लोग हमारी मदद करेंगे।'

आखिर प्रज्ञा को क्यों ढूंढा जा रहा है

यह सवाल पूछे जाने पर कि आखिर सांसद प्रज्ञा ठाकुर को क्यों ढूंढा जा रहा है, उन्होंने कहा कि, 'भोपाल लोकसभा क्षेत्र में हर रोज सैंकड़ों कोरोना मरीजों की मौत हो रही है। गली-चौराहों में चारो तरफ चीख पुकार मची हुई है, श्मशान लाशों से भरा पड़ा है, कब्रिस्तान खोदते-खोदते मजदूरों के हाथ छिल गए और जेसीबी लगवाना पड़ा। पूरे भोपाल में मौत का तांडव जारी है। ऐसी विषम परिस्थितियों में जब सांसद का यह कर्तव्य बनता है कि वो अपने क्षेत्र के लोगों के साथ खड़े रहे, तब प्रज्ञा ठाकुर संवेदनहीनता की पराकाष्ठा को पार करते हुए अपनी मस्ती में मग्न हैं। भोपाल वासियों ने बड़ी भूल की है जो ऐसे जनप्रतिनिधि को चुना जिसे महामारी के दौर में अपने मतदाताओं की हो रही मौत का कोई मलाल नहीं है।'