BJP का सेलेक्टिव विरोध, आश्रम 3 नामंजूर लेकिन समान थीम पर अक्षय कुमार स्टारर को सरकारी संरक्षण

मध्य प्रदेश में आश्रम 3 वेब सीरीज के क्रू पर बजरंग दल के हमले में सरकार की सहमति.. लेकिन समान थीम पर ओह माई गॉड 2 की उज्जैन में चल रही निर्बाध शूटिंग, बीजेपी के बड़े नेताओं ने दिया अक्षय कुमार को संरक्षण

Updated: Oct 26, 2021, 10:29 AM IST

BJP का सेलेक्टिव विरोध, आश्रम 3 नामंजूर लेकिन समान थीम पर अक्षय कुमार स्टारर को सरकारी संरक्षण

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में आश्रम 3 वेब सीरीज के क्रू पर हमले के बाद बवाल बढ़ता ही जा रहा है। गृहमंत्री द्वारा उपद्रवियों के समर्थन में बयान देने के बाद अब भोपाल सांसद ने भी इसे लेकर चेतावनी दी है। खास बात ये है कि मुद्दों को लेकर बीजेपी का सेलेक्टिव विरोध देखने को मिल रहा है। लगभग समान थीम पर प्रदेश में एक और फ़िल्म ओह माई गॉड की भी शूटिंग चल रही है। चूंकि, यह फ़िल्म पीएम मोदी का इंटरव्यू लेने के लिए भी जाने जाने वाले खिलाड़ी कुमार यानी अक्षय कुमार कर रहे हैं, इसलिए इसका विरोध तो दूर इस फिल्म को बीजेपी नेताओं का पूर्ण संरक्षण मिल रहा है।

अक्षय कुमार ओह माई गॉड 2 की शूटिंग बाबा महाकाल की नगरी उज्जैन में कर रहे हैं। इसके लिए मंदिर परिसर के भीतर सेट लगाया गया है। यहां पूरे दस दिन शूटिंग होगी, लेकिन इसका किराया सुनकर आप दंग रह जाएंगे। प्रशासन ने इस शूटिंग के लिए महज 50 हजार रुपए लिया है, जबकि यह करोडों की बजट वाली फिल्म है। संत समाज विरोध में उतर आया है और उनकी मांग है कि क्या मंदिर के पुरोहितों, संतों और उनके यजमानों के लिए प्रशासन इतने सस्ते में महाकाल परिसर किराए पर देगा। संतों का आरोप है कि समर्थन का आलम ये है कि दस हजार के किराए में प्रटोकाल की ऱाशि तक नहीं जोड़ी गई है।

यह भी पढ़ें: ओह माय गॉड 2 की शूटिंग को लेकर बवाल, कम किराया वसूलने पर महाकाल मंदिर प्रबंधन सवालों के घेरे में

फिल्मी दुनिया में अक्षय कुमार बतौर अभिनेता बीजेपी के फेवरेट रहे हैं। इसका कारण यह भी हो सकता है कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का बहुचर्चित इंटरव्यू लिया था। ऐसे में यह भी माना जा रहा है कि सरकार ने न केवल उनकी फिल्म को किराए में छूट दी है बल्कि महाकाल के संतों के खिलाफ जाकर उन्हें पूर्ण संरक्षण भी दिया है। दो दिन पहले ही बीजेपी के बड़े नेता कैलाश विजयवर्गीय ने अक्षय कुमार के साथ तस्वीर भी साझा किया था। बताया यह भी जा रहा है कि कई अन्य नेता भी उनसे मिलने पहुंच रहे हैं। 

अक्षय कुमार के रुतबे का इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि अक्षय ने कल इंडिया बनाम पाकिस्तान मैच स्टेडियम में गृहमंत्री अमित शाह के बेटे व बीसीसीआई सचिव जय शाह के साथ बैठकर देखा है। ऐसे में उनके फ़िल्म का विरोध न बीजेपी के नेता करना चाहते हैं और न ही कथित रूप से बीजेपी समर्थित बजरंग दल, विश्व हिंदू परिषद व संस्कृति बचाओ मंच जैसे संगठन। वहीं, दूसरी ओर आश्रम 3 के साथ ऐसा नहीं है। भोपाल में राज्य सरकार से परमिशन लेकर क्रू ने शूटिंग तो चालू कर दिया लेकिन बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने क्रू के साथ जमकर मारपीट की और शूट बाधित करने में उन्हें चंद मिनट ही लगे।

यह भी पढ़ें: ओह माय गॉड 2 की शूटिंग को लेकर बवाल, कम किराया वसूलने पर महाकाल मंदिर प्रबंधन सवालों के घेरे में

इस दौरान बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने शूटिंग स्थल पर मौजूद वाहनों के साथ तोड़फोड़ की, वेब सीरीज के डायरेक्टर प्रकाश झा पर स्याही भी फेंकी गई। भोपाल पुलिस ने चार उपद्रवियों को गिरफ्तार भी कर लिया। लेकिन अगले ही सुबह सोमवार को गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इन उपद्रवियों का सांकेतिक रूप से समर्थन कर दिया। मिश्रा ने कहा कि आश्रम नाम को लेकर मुझे भी आपत्ति है। उन्होंने कहा कि भावनाओं को आहत करने वाले दृश्यों को ही फिल्माने की जरूरत क्यों है? मिश्रा ने यहां तक कह दिया की प्रकाश झा को भी यह सोचने की जरूरत है कि ऐसा क्यों हुआ? 

भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने चेतावनी दी है कि हिंदू धर्म को बदनाम करने की कोई कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। प्रज्ञा ठाकुर ने फ़िल्म की शूटिंग रुकवाने के लिए प्रशासन को ज्ञापण भी सौंपा है। ऐसे में अब सवाल यह उठ रहा है कि क्या राज्य सरकार ने जब आश्रम 3 की शूटिंग को परमिशन दी तो गृहमंत्री होने के नाते नरोत्तम मिश्रा को इस बात की जानकारी नहीं थी? और सरकार को जब नाम में आपत्ति थी तो शूटिंग की इजाजत ही क्यों दी गई? 

इस पूरे मामले पर मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह ने नरोत्तम मिश्रा पूछा है कि प्रदेश आपके पाले हुए गुण्डों को कब तक बर्दाश्त करेगा? सिंह ने आरोप लगाया है कि बजरंग दल अपराधियों का संगठन बन गया है। उन्होंने बताया कि बजरंग दल का नेता सुशील सुडेले मीडिया के समक्ष सरेआम अपना अपराध स्वीकारते हुए बॉबी देओल को ढूंढने की बात कर रहा है। सिंह ने मुताबिक वह आदतन अपराधी भी है। राज्यसभा सांसद ने कहा है कि मुझे सीएम और गृहमंत्री से कोई उम्मीद नहीं है लेकिन डीजीपी पर विश्वास है, कम से कम वे तो कार्रवाई करें। उन्होंने डीआईजी भोपाल के रवैए पर भी निराशा व्यक्त की है।