बारिश में पौधे को पानी देते नज़र आए मुख्यमंत्री शिवराज चौहान, सोशल मीडिया पर हुए ट्रोल

भोपाल के स्मार्ट सिटी पार्क में पौधारोपण के दौरान सीएम शिवराज की एक तस्वीर वायरल, भरी बारिश में छाता लगाकर पौधे में पानी डालते नज़र आए शिवराज

Updated: Sep 12, 2021, 11:52 AM IST

बारिश में पौधे को पानी देते नज़र आए मुख्यमंत्री शिवराज चौहान, सोशल मीडिया पर हुए ट्रोल

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इन दिनों सोशल मीडिया यूजर्स की चर्चा का बड़ा विषय बने हुए हैं। भाजपा शासित राज्यों में मुख्यमंत्री बदलने के समय में सोशल मीडिया पर सीएम शिवराज की कुर्सी जाने की अनेक चर्चाओं के बीच वो अपनी एक तस्वीर के लिए ट्रोल हो रहे हैं। सीएम शिवराज की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें वे भरी बारिश में छाता लगाकर पौधे को पानी देते हुए नज़र आ रहे हैं। 

सोशल मीडिया पर शिवराज सिंह चौहान की तस्वीर को लेकर तरह तरह के कमेंट देखने को मिल रहे हैं। आम यूजर्स के साथ साथ विपक्षी दल कांग्रेस ने भी शिवराज की इस तस्वीर को कवितात्मक बना दी है। कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने सीएम की वायरल तस्वीर को साझा करते हुए कविता लिख डाली है। माटी लगे ना पांव, मेंपानी लगे ना अंग.भर भर मग्गा डारी दे, मामा छतरी के संग। 

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने मुख्यमंत्री पर तंज कसते हुए कहा है कि माटी के लाल, किसान पुत्र शिवराज जी का गिली मिट्टी पर महँगा पत्थर बिछवाकर बरसात में छाता लगाकर पौधों को पानी डालते हुए यह एक विहंगम दृश्य है।  

दरअसल सीएम की वायरल हो रही तस्वीर राजधानी भोपाल के स्मार्ट सिटी पार्क की है। तस्वीर में एक व्यक्ति सीएम के साथ छाता लिए हुए खड़ा नजर आ रहा है और सीएम भरी बारिश में पौधे में पानी डालते हुए नज़र आ रहे हैं। लिहाज़ा सोशल मीडिया पर बारिश के दौरान पौधे में पानी डालते सीएम की खिल्ली उड़ाई जा रही है। सोशल मीडिया पर सीएम वायरल तस्वीर के कारण तो ट्रोल हो ही रहे हैं, लेकिन उनकी कुर्सी को लेकर भी यूजर्स व्यंग्य करने से बाज़ नहीं आ रहे है।  लोग यह कयास लगा रहे हैं कि बीजेपी के मुख्यमंत्री बदलो अभियान का अगला शिकार खुद सीएम शिवराज होने वाले हैं। 

सीएम बदलने के इन कयासों की वजह शनिवार को गुजरात के सीएम विजय रुपानी का इस्तीफा भी माना जा रहा है। उत्तराखंड और कर्नाटक में सीएम बदले जाने के बाद बीते दिन गुजरात के सीएम को भी अपने पद से इस्तीफा देना पड़ गया। लिहाज़ा लोग अब सीएम शिवराज की कुर्सी को लेकर संशय में पड़ गए हैं। सीएम के बार बार दिल्ली बुलावे को भी कई जानकार इसी संशय से जोड़कर देख रहे हैं। 

मध्य प्रदेश बीजेपी में आंतरिक गुटबाज़ी की चर्चा भी जोरों पर है। कई महीनों से ऐसी चर्चा आम है कि खुद शिवराज सरकार में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और प्रह्लाद पटेल सीएम पद की होड़ में हैं। वहीं बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा का नाम भी सीएम पद की रेस में आता जाता रहता है। गुटबाज़ी के इन्हीं दावों के बीच सीएम शिवराज का वृक्षारोपण कार्यक्रम भी निशाने पर आ गया है।

ऐसा आकलन है कि स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के लिए पिछली सरकार में सीएम रहते खुद शिवराज चौहान ने शहर के दस हज़ार पेड़ कटवा दिए थे। यही नहीं मध्य प्रदेश में हीरे के लिए बक्स्वाहा के जंगलों के काटे जाने, आमतौर पर सूखे इलाकों में भयंकर बाढ़ और बारिश तथा कोरोना काल में ऑक्सीजन की कमी से तड़पते और दम तोड़ते लोगों की मौत के बाद पेड़ काटने का मुद्दा जोरों से उठा। तभी से सीएम रोजाना एक पेड़ शहर की स्मार्ट सिटी पार्क में लगाया करते हैं।