किस्मत से सांसद बने वीडी शर्मा न दें कमल नाथ को ज्ञान, विधानसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र पर कांग्रेस का वार

वीडी शर्मा ने पीसीसी चीफ़ कमल नाथ के ख़िलाफ़ कार्रवाई को लेकर विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम को पत्र लिखा था, कमल नाथ ने हाल ही में एक इंटरव्यू में विधानसभा न जाने के पीछे अपनी वजह बताई थी

Publish: Apr 26, 2022, 06:56 PM IST

किस्मत से सांसद बने वीडी शर्मा न दें कमल नाथ को ज्ञान, विधानसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र पर कांग्रेस का वार
Photo Courtesy : News 18

भोपाल। एक समाचार माध्यम को दिए पूर्व सीएम कमल नाथ के साक्षात्कार के संबंध में वीडी शर्मा द्वारा विधानसभा स्पीकर को लिखे पत्र के मामले में कांग्रेस पार्टी ने भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पर करारा हमला बोला है। कांग्रेस पार्टी ने वीडी शर्मा पर तंज कसते हुए कहा है कि किस्मत से पहली बार सांसद बने वीडी शर्मा को अनुभवी सांसद कमल नाथ को ज्ञान नहीं देना चाहिए। कांग्रेस ने भाजपा नेता पर करारा हमला बोलते हुए कहा है कि अभी वीडी शर्मा ख़ुद ही संसदी परंपराओं का ज्ञान नहीं है। 


कांग्रेस प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने वीडी शर्मा के पत्र के संबंध में प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा पहली बार के सांसद हैं, क़िस्मत से बने हैं, उन्हें अभी ख़ुद संसदीय परंपराओं का ज्ञान नही है, कमलनाथ जी जो सबसे ज़्यादा अनुभव वाले सांसद हैं, उन्हें ज्ञान देने चले हैं। 


सलूजा ने वीडी शर्मा को संसदीय परंपराओं का पाठ पढ़ाते हुए कहा कि अब सदन के बाहर के एक साक्षात्कार को लेकर विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिख रहे हैं? उन्हें ज्ञान होना चाहिये कि सदन के बाहर की कोई भी बात सदन के कार्यक्षेत्र का विषय नही होता है , अध्यक्ष के कार्यक्षेत्र में नही आता है।

यह भी पढ़ें ः BJP ने विधानसभा स्पीकर से की कमलनाथ की शिकायत, बकवास वाले बयान पर कार्रवाई की मांग


दरअसल बीजेपी एमपी के अध्यक्ष वीडी शर्मा ने मध्य प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष गिरीश गौतम को पूर्व सीएम कमल नाथ की शिकायत करते हुए एक पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कमल नाथ के एक बयान का हवाला देकर उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की है। कमल नाथ ने हाल ही में एक समाचार माध्यम से बातचीत करते हुए कहा था कि बीजेपी के नेता विधानसभा सिर्फ़ बक़वास करते हैं, इसलिए वे सदन की कार्रवाई में हिस्सा लेने नहीं जाते। कांग्रेस नेता ने कहा, “हां मैं विधानसभा कम जाता हूं, क्योंकि वो लोग विधानसभा में बकवास करते हैं। मुझे रोज़ाना दो सौ लोगों से मिलना होता है, मैं वहां उनकी बक़वास सुनने के लिए जाऊं क्या?”