ज्योतिरादित्य सिंधिया के सचिव ने टिकट के बदले विधायक पति से मांगे थे 1 करोड़

MP By Election: कांग्रेस ने ग्वालियर के आईजी से एक वीडियो के आधार पर कार्रवाई की मांग की है, जिसमें सिंधिया के निजी सचिव भांडेर के बीजेपी प्रत्याशी के पति से टिकट के एवज में 1 करोड़ रुपये मांगते दिख रहे हैं

Updated: Oct 30, 2020, 08:54 AM IST

ज्योतिरादित्य सिंधिया के सचिव ने टिकट के बदले विधायक पति से मांगे थे 1 करोड़
Photo Courtesy : New Indian Express

ग्वालियर। ज्योतिरादित्य सिंधिया के निजी सचिव पुरुषोत्तम पाराशर और भांडेर से बीजेपी प्रत्याशी रक्षा संतराम सिरोनिया के पति के बीच बातचीत का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें सिंधिया के निजी सचिव भांडेर से पूर्व विधायक और मौजूदा बीजेपी प्रत्याशी को टिकट दिलाने के एवज़ में एक करोड़ रुपए भुगतान करने की बात कह रहे हैं। उसी वीडियो में सिंधिया के निजी सचिव पूर्व विधायक पति द्वारा अपने साले को 25 लाख रुपए की राशि दिए जाने की बात भी कहते सुनाई दे रहे हैं। 

यह वीडियो 2018 विधानसभा चुनाव से पहले का बताया जा रहा है, जब ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस के नेता हुआ करते थे और रक्षा संतराम सिरोनिया कांग्रेस के टिकट पर भांडेर सीट से अपनी दावेदारी पेश कर रही थीं। अब कांग्रेस ने वायरल वीडियो की शिकायत ग्वालियर के आईजी से कर दी है। कांग्रेस ने वीडियो की जांच कर जल्द से जल्द कार्रवाई किए जाने की मांग की है।  

कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने इस सिलसिले में एक बयान भी जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि यह मामला सीधे तौर पर राजनीतिक और आर्थिक भ्रष्टाचार का है। लिहाजा, ऐसे मामलों में कोताही बरतना भ्रष्टाचारियों को संरक्षण देने के बराबर होगा। केके मिश्रा ने कहा कि टिकट के बदले एक करोड़ रुपए के भुगतान की मांग की बात खुद पूर्व विधायक के पति ने कांग्रेस नेता गोविन्द सिंह के साथ सार्वजानिक बातचीत में स्वीकारी है। संतराम ने गोविन्द सिंह से कहा था कि एक करोड़ रुपए नहीं देने पुरुषोत्तम पाराशर ने भांडेर के किसी कमलापत को टिकट देने की बात कही थी। इतना ही नहीं संतराम ने पाराशर के साले अनूप दांतरे को उनके कहने पर 25 लाख रुपये की डिलिवरी भी कर दी थी। चर्चा में किसी दत्तीगांव का भी जिक्र आया है, जिसमें उन्होंने भी संतराम को यह कहा है कि महाराज सिंधिया ही कह रहे है कि पैसे जमा कराएये। 

केके मिश्रा ने आगे  कहा कि इस प्रकरण के पहले 2018 के विधानसभा चुनाव में भी टिकट को लेकर इस चुनाव में अशोक नगर (गुना) से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ रही आशा दोहरे की सासु मां अनीता जैन से भी पाराशर द्वारा टिकट के एवज में 50 लाख रुपयों के लेनदेन का ऑडियो सार्वजनिक हुआ था, जिसकी शिकायत कांग्रेस के प्रतिनिधि मंडल ने जून महीने में तत्कालीन ए.डी.जी. राजाबाबू सिंह से की थी, लेकिन अभी तक शिकायत को संज्ञान में नहीं लिया गया है। केके मिश्रा ने अपने बयान में कहा कि आई.जी. ग्वालियर से कांग्रेस का आग्रह है कि इन दोनों ही ऑडियो और वीडियो की सायबर सेल से जांच व इनमें सामने आये उल्लेखित नामों के बयान दर्ज करवाकर दोषियों के विरूद्ध एफ.आई.आर. दर्ज किये जाने हेतु निर्देश प्रदान करे।