कोरोना ने बदला जीने का तरीका, दहेज में मिले ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स, बारातियों ने किया पौधरोपण

कोरोना की दूसरी लहर से उबरने के बाद उज्जैन में हुई अनूठी शादी, लड़के को दहेज में मिला 1 लाख 40 हजार का ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर, सात के बदले लिया आठ वचन

Updated: Jul 04, 2021, 03:15 PM IST

कोरोना ने बदला जीने का तरीका, दहेज में मिले ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स, बारातियों ने किया पौधरोपण

उज्जैन। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देशभर में जो मौत का मंजर देखने को मिला है उसे भूलने में दशकों लग जाएंगें। दूसरी लहर में सरकारी कुव्यवस्था, सांसों की कमी से हो रही मौतों ने यह बता दिया है कि मदद करने का जज्बा कितना जरूरी है। कोरोना की वहज से लोगों के जीवन के तौर-तरीके में भी काफी बदलाव आया है। मध्यप्रदेश के उज्जैन में एक ऐसा ही अनोखी शादी हुई है जहां दहेज में ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स दिया गया, वहीं दूल्हे ने समाजसेवा का आठवां वचन भी दिया।

महाकाल की नगरी उज्जैन के अंकित धाम ने गोयल परिवार ने यह मिशाल पेश की है। रुपए-पैसे, गहने-जेवरात, वाहन, टीवी-फ्रिज के ट्रेंड के इतर गोयल परिवार ने दहेज में ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर दिया है। जानकारी के मुताबिक उज्जैन स्थित सेवा धाम आश्रम के संचालक सुधीर भाई गोयल की बड़ी बेटी मोनिका की शनिवार को शादी हुई। इसमें पुणे में असिस्टेंट सीए के पद पर काम करने वाले अंकित महाराष्ट्र के यवतमाल से बारात लेकर आए थे।

यह भी पढ़ें: CM बोले- कोरोना काल में सात रातों तक जगा रहा, पीड़ित परिजनों का फूटा गुस्सा, बोले- आप बंगाल चुनाव में व्यस्त थे

विवाह के दौरान लड़कीवालों ने दहेज स्वरूप लड़के को दो ऑक्सीजन कंसेंट्रेटर्स दिए। इसकी कीमत 1 लाख 40 हजार बताई जा रही है। इतना ही हिन्दू परंपरा के अनुसार दूल्हा-दुल्हन जो आमतौर पर सात वचन के सात फेरे लेते हैं, यहां आठ फेरे लिए गए। आठवां फेरा समाजसेवा के वादे का था। दूल्हा-दुल्हन ने अग्नि को साक्षी मानकर संकल्प लिया कि वे यथासंभव जरूरतमंदों की मदद करेंगे। इस दौरान खास बात यह रही कि सभी बारातियों से पौधे लगवाए गए। उज्जैन की यह अनूठी शादी इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है।