Vikas Dubey Updates : संदेह है कि कोई संरक्षण दे रहा था

Kanpur Encounter : गैंगस्‍टर विकास दुबे के सरेंडर के बाद पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्विजय सिंह और कमलनाथ ने न्यायिक जांच की मांग की

Publish: Jul 10, 2020 02:21 AM IST

Vikas Dubey Updates : संदेह है कि कोई संरक्षण दे रहा था

गुरुवार सुबह फरार अपराधी विकास दुबे के उज्जैन में सरेंडर के बाद से ही MP सरकार की मंशा पर सवाल उठ रहे हैं। विकास दुबे की गिरफ्तारी के पीछे की साज़िश पर संशय गहराता जा रहा है। ऐसे में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने इस संबंध में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने भी इस पूरे मामले में निष्पक्ष जांच कराने को कहा है। कानपुर शूटआउट में मारे गए दिवंगत डीएसपी देवेंद्र मिश्रा के रिश्तेदार कमलकांत ने आरोप लगाया है कि विकास दुबे को बचाया गया है। उन्होंने कहा कि इसमें बड़े स्तर पर मिलीभगत हुई है।

विकास दुबे के संपर्कों की जांच हो 

विपक्ष ऐसे आरोपों को लेकर हमलावर हो गया है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से विकास दुबे की गिरफ्तारी की न्यायिक जांच कराने की मांग की है। इसके साथ ही दिग्विजय सिंह ने कहा है कि कुख्यात अपराधी विकास दुबे के किस पुलिसकर्मियों और राजनेताओं ने संपर्क हैं, इसकी भी जांच होनी चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा है कि विकास दुबे को कड़ी सुरक्षा में न्यायिक हिरासत में रखा जाना चाहिए ताकि इसके नेताओं व पुलिसकर्मियों से संपर्क और संबंधों के राज़ सामने आ सकें। 

विकास दुबे की गिरफ्तारी संदेहास्पद 

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने विकास दुबे की गिरफ्तारी को संदेहास्पद करार दिया है। कमल नाथ का कहना है कि इतने बड़े अपराधी, जिसको पुलिस दिन रात खोज रही थी उसका कानपुर से उज्जैन सुरक्षित पहुंच जाना और खुद गिरफ्तारी दे देना कई संदेह को जन्म दे रहा है। यह घटना किसी के द्वारा विकास दुबे को संरक्षण प्राप्त होने की गवाही दे रही है। कमल नाथ ने कहा है कि इस घटना से साजिश की बू आ रही है। ऐसे में इसकी उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए।

प्रदेश एक बार फिर अपराधियों की शरणस्थली बन गया है

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने प्रदेश की लगातार बिगड़ती कानून व्यवस्था पर राज्य की बीजेपी सरकार पर हमला बोला है। कमल नाथ ने शिवराज सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि प्रदेश में शिवराज सरकार के सत्ता में आने के बाद से ही अपराधियों का बोलबाला शुरू हो गया है। कमल नाथ ने अपने कार्यकाल की याद दिलाते हुए कहा है कि ' हमने हमारी सरकार में माफ़ियाओ के ख़िलाफ़ सतत बड़ा अभियान चलाया , जिसके कारण माफिया प्रदेश छोड़कर चले गये और अब भाजपा सरकार आते ही माफिया वापस प्रदेश लौटने लगे है।प्रदेश माफियाओ की सुरक्षित शरणस्थली बनता जा रहा है।'

ज्ञात हो कि शुक्रवार को  कानपुर मुठभेड़ में आठ पुलिसकर्मियों को मौत की घाट उतारने के बाद से ही विकास दुबे फरार चल रहा था। गुरुवार सुबह में विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर में पकड़ा गया  है। इतने बड़े अपराधी इस तरह से आत्मसमर्पण कर देना कई सवालों को जन्म दे रहा है।