अंग्रेज़ी हुकूमत में भी किसानों को था अदालत जाने का अधिकार, दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर बोला हमला

दिग्विजय सिंह ने दी किसानों की हिदायत, आंदोलन में राजनीतिक दलों को शामिल करने से न करें परहेज़, भाजपा को भी बुलाएं

Updated: Sep 27, 2021, 05:34 PM IST

अंग्रेज़ी हुकूमत में भी किसानों को था अदालत जाने का अधिकार, दिग्विजय सिंह ने बीजेपी पर बोला हमला
Photo Courtesy : Twitter

भोपाल। देश भर में किसानों के समर्थन में आज भारत बंद का आह्वान किया गया है। भारत बंद के अवसर पर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा सरकार के खिलाफ हमला बोल दिया। कांग्रेस के राज्यसभा सांसद ने केंद्र की मोदी सरकार को आईना दिखाते हुए कहा कि अंग्रेज़ी हुकूमत के दौरान भी किसानों को अदालत जाने का अधिकार था, लेकिन बीजेपी द्वारा बनाए गए कानूनों में किसानों को अदालत जाने का अधिकार नहीं है। कांग्रेस नेता ने कहा कि ठगी का शिकार होने के बाद किसान अदालत में नहीं जा सकता। दिग्विजय सिंह ने कहा कि किसानों से अदालत का रुख करने का मौलिक अधिकार छिन जाएगा। 

भाजपा के घोषणापत्र में नहीं था कानूनों का उल्लेख

दिग्विजय सिंह ने भोपाल की करोंद मंडी पर आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए कृषि कानूनों के दुष्परिणाम पर चर्चा की। कांग्रेस नेता ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी के घोषणापत्र में इन तीनों कानूनों का कोई उल्लेख नहीं था, लेकिन इसके बावजूद बीजेपी तीनों कानून लेकर आई है। दिग्विजय सिंह ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने कानूनों को लागू करने से पहले किसानों से एक बार चर्चा तक करने की ज़हमत उठाना ज़रूरी नहीं समझा।  

कांग्रेस नेता ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि मोदी सरकार इन कानूनों के ज़रिए भारत के 15 से 18 लाख करोड़ के कृषि व्यवसाय को बड़े-बड़े उद्योगपतियों के कब्ज़े में देने की तैयारी कर रही है। राज्सभा सांसद ने कानूनों के पीछे की मंशा समझाते हुए कहा कि मौजूदा वक्त में बड़ा व्यापारी हर मंडी में जा कर फसल नहीं खरीद सकता, क्योंकि उसे हर मंडी में अपना लाइसेंस लेना पड़ेगा। इसलिए उन्होंने यह प्रावधान किया कि एक लाइसेंस के ज़रिए देश भर में बड़ा व्यापारी व्यापार कर सके। कांग्रेस नेता ने कहा कि इसके साथ ही उन्होंने प्रावधान किया है। 

उपभोक्ताओं को भी होगा इन कानूनों का नुकसान

दिग्विजय सिंह ने किसानों को सचेत करते हुए कहा कि जिस दिन प्रतिस्पर्धा खत्म हो जाएगी उस दिन किसानों को अपनी फसल कम दामों में बेचने पर मजबूर होना पड़ेगा। जिसका नुकसान किसानों के साथ-साथ छोटे-छोटे व्यापारियों को भी होगा। क्योंकि वे बड़ी कंपनियों के सामने टिक नहीं पाएंगे। कांग्रेस नेता ने बताया कि कानूनों के दुष्परिणाम के चलते छोटे व्यापारी बड़ी कंपनियों के कमीश्न एजेंट बनने पर मजबूर हो जाएंगे। कांग्रेस नेता ने कहा कि इन कानूनों का खामियाजा केवल किसानों और व्यापारियों को ही नहीं बल्कि उपभोक्ताओं को भी उठाना पड़ेगा। दिग्विजय सिंह ने कहा कि जब भी बाज़ार में किसानों की फसल आने वाली होती है, उससे पहले सरकार विदेशों से आयात को बढ़ाने के लिए आयात शुल्क कम कर देती है। 

राजनीतिक दलों से परहेज़ न करें किसान 

दिग्विजय सिंह ने किसानों की इस बात की भी हिदायत दी कि वे अपने आंदोलन में राजनीतिक दलों को शामिल करने से परहेज़ न करें। कांग्रेस नेता ने कहा कि अपने आंदोलन में बीजेपी को भी आमंत्रित की करें। दिग्विजय सिंह ने किसानों को इस बात का आश्वासन दिया कि किसानों का समर्थन करने में न तो कांग्रेसी कभी पीछे हटे हैं और न ही कभी हटेंगे।

भारत बंद का समर्थन करने के लिए दिग्विजय सिंह के करोंद मंडी पहुंचने की खबर लगते ही भोपाल का प्रशासनिक अमला मंडी के बाहर एकत्रित हो गया। कलेक्टर अविनाश लवानिया और डीआईजी इरशाद वली भी मौके पर मौजूद थे। कांग्रेस नेता ने मंडी पहुंच कर परिसर के बाहर ही धरना दिया। इसके बाद दिग्विजय सिंह सहित अन्य कांग्रेस नेताओं ने भाषण के बाद धरना समाप्त कर दिया। दिग्विजय सिंह ने किसान संगठनों के पदाधिकारियों के साथ कलेक्टर को ज्ञापन सौंप दिया।