Digvijaya Singh: यह कांग्रेस के एकमत होने का समय, CWC के पहले दिग्विजय सिंह ने कहा

Congress Working Committee: सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नेतृत्व के समर्थन में आगे आए एम पी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह और कमल नाथ

Updated: Aug 24, 2020 07:03 PM IST

Digvijaya Singh: यह कांग्रेस के एकमत होने का समय, CWC के पहले दिग्विजय सिंह ने कहा

भोपाल। कांग्रेस आलाकमान में फेरबदल की तमाम गुंजाइशों की अटकलों बीच पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अपना रुख स्पष्ट कर दिया है। कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है कि यह एक ऐसा समय है जब कांग्रेस को एकमत होना चाहिए। 

आज कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक होने वाली है। बैठक से पहले यह अटकलें लगाई जा रही हैं कि सोनिया गांधी इस्तीफा दे सकती हैं। इससे पहले खबरों के बाज़ार में गहमागहमी तब आ गई जब मीडिया में यह दावा किया जाने लगा कि कांग्रेस के कुछ आला दर्जा के नेताओं ने वर्किंग कमिटी की बैठक से पहले सोनिया गांधी को पत्र लिख कर अध्यक्ष पद पर फेरबदल करने की मांग की है। 

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह का कहना है कि 'यह समय एकमत होने का है। यह मत भिन्नता का समय नहीं है।' उन्होंने आगे कहा, ' जिस परिवार ने देश की आजादी और उसके बाद जो देश के लिए त्याग और बलिदान किया है वह सर्वविदित है। ' पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मीडिया में आ रही खबरों को लेकर कहा कि ' मीडिया में जो आ रहा है, उससे सहमत नहीं हूं, नेहरू गांधी परिवार के बिना मैं कांग्रेस की कल्पना भी नहीं कर सकता।' 

कांग्रेस कार्यकर्ता राहुल के अलावा किसी और को स्वीकार नहीं करेगा 

कांग्रेस आलाकमान में फेरबदल के मसले पर दिग्विजय सिंह भी राहुल गांधी और सोनिया गांधी के समर्थन में उतर आए हैं। इससे पहले अमरिंदर सिंह, अशोक गहलोत और भूपेश बघेल अपना समर्थन पहले ही ज़ाहिर कर चुके हैं। दिग्विजय सिंह ने कहा है कि 'सोनिया जी का नेतृत्व सर्व मान्य है। यदि सोनिया जी कॉंग्रेस अध्यक्ष का पद छोड़ना ही चाहती हैं तो राहुल जी को अपनी ज़िद छोड़ कर अध्यक्ष का पद स्वीकार कर लेना चाहिए। देश का आम कॉंग्रेस कार्यकर्ता और किसी को स्वीकार नहीं करेगा।'

कमल नाथ भी समर्थन में 

सोनिया गांधी के समर्थन में दिग्विजय सिंह के अलावा अब कमल नाथ भी उतर आए हैं। कमल नाथ ने सोनिया गांधी की नेतृत्व क्षमता को लेकर कहा है कि 'किसी को यह नहीं भूलना चाहिए 2004 में सोनिया गांधी के खिलाफ तमाम झूठी अफवाहों के बावजूद उन्होंने कांग्रेस का नेतृत्व किया और अटल बिहारी वाजपेयी को घर बैठाया।'

कमल नाथ ने कहा है कि सोनिया गांधी के नेतृत्व पर कोई भी सुझाव या आक्षेप बेतुका है। कमल नाथ ने कहा है कि 'मैं श्रीमती सोनिया गांधी से अपील करता हूं कि वे अध्यक्ष के रूप में कांग्रेस पार्टी को मजबूती प्रदान करें और कांग्रेस का नेतृत्व करती रहें।'