Govind Singh Rajput: राम के नाम पर वोटर्स को बरगला रहे हैं बीजेपी कार्यकर्ता

MP By poll 2020: मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के लिए मंदिर के नाम पर वोट मांगने का वीडियो वायरल

Updated: Sep-22, 2020, 03:43 PM IST

Govind Singh Rajput: राम के नाम पर वोटर्स को बरगला रहे हैं बीजेपी कार्यकर्ता

सुरखी। मध्यप्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले आगामी विधानसभा उपचुनाव के लिए सभी पार्टियां और नेता मतदाताओं को साधने की जुगत में हैं। इसी बीच सुरखी विधानसभा क्षेत्र का एक वीडियो अजीबोगरीब कारणों से सुर्खियों में है। सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो में देखा जा सकता है कि बीजेपी कार्यकर्ता राम के नाम पर वोटर्स को कैसे बरगलाने की कोशिश कर रहे हैं।

वायरल वीडियो में एक व्यक्ति भगवान कृष्ण और राधा का कैलेंडर लिए एक बुजुर्ग महिला के पास जाता है। कैलेंडर में नीचे मध्यप्रदेश के सड़क परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत की फ़ोटो लगी है। इस दौरान वह व्यक्ति कहता है कि, 'ये हैं गोविंद भइया। राम मंदिर बनवा रहे हैं मोदी जी। तो सब जने फूल में हो गए हैं। हम एक वोट फूल में देंगे तो एक ईंट लगेगी राम मंदिर में, पुण्य अलग मिलेंगे।'

 

बताया जा रहा है कि इस तरह प्रचार करता दिखाई दे रहा व्यक्ति गोविंद राजपूत का समर्थक नरेंद्र डब्बू आठिया है जो गोविंद के साथ कांग्रेस से बीजेपी में चला गया है। कांग्रेस में रहते हुए यह जिला ग्रामीण महासचिव के पद पर था। बता दें कि इसके पहले गोविंद सिंह राजपूत ने पूरे विधानसभा क्षेत्र में राम शिला रथ यात्रा भी निकाली थी। मामले पर कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी सिर्फ राम के नाम की राजनीति कर रही है, उनके पास विकास का मुद्दा है नहीं जिसपर वोट मांग सकते हैं।

Click: Govind Singh Rajput: बीजेपी को लेना पड़ रहा है नकली राम नाम का सहारा

पारुल साहू के कांग्रेस में जाने से बदली समीकरण

मध्यप्रदेश उपचुनाव के लिए सुरखी विधानसभा को हाई प्रोफाइल सीट माना जा रहा है। क्षेत्र में राजनीतिक गतिविधियां भी अपने चरम पर है। इसी बीच बीजेपी नेता व पूर्व विधायक पारुल साहू ने कांग्रेस का दामन थाम लिया है। पारुल के कांग्रेस में आने से चुनावी समीकरण बदल गया है। माना जा रहा है कि पारुल ही कांग्रेस की ओर से गोविंद के खिलाफ मैदान में उतरेंगी। दोनों के बीच चुनाव में कांटे की टक्कर मानी जा रही है। बता दें कि साल 2013  के विधानसभा चुनाव में पारुल साहू ने गोविंद राजपूत को हरा दिया था लेकिन 2018 में उन्हें टिकट नहीं मिला था। अब देखना यह होगा कि सुरखी विधानसभा के लोग किसे अपना नेता मानते हैं।