हमीदिया नर्सिंग कॉलेज में NSUI के साथ धरने पर बैठीं सैंकड़ों छात्राएं, वाइस प्रिंसिपल पर प्रताड़ना का आरोप

हमीदिया अस्पताल परिसर स्थित नर्सिंग कॉलेज की वाइस प्रिंसिपल रजनी नायर पर छात्राओं ने लगाए बॉडी शेमिंग करने का आरोप, 131 छात्राएं कर चुकी हैं सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत, छात्राओं के समर्थन में उतरी NSUI, आरोपी प्रिंसिपल को अविलंब हटाने की मांग

Updated: Jul 18, 2022, 01:13 PM IST

हमीदिया नर्सिंग कॉलेज में NSUI के साथ धरने पर बैठीं सैंकड़ों छात्राएं, वाइस प्रिंसिपल पर प्रताड़ना का आरोप

भोपाल। हमीदिया अस्पताल परिसर स्थित नर्सिंग कॉलेज की वाइस प्रिंसिपल रजनी नायर के खिलाफ छात्राओं का आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। पीड़ित छात्राओं के समर्थन में अब मध्य प्रदेश एनएसयूआई खुलकर सामने आ गई है। सोमवार को एनएसयूआई मेडिकल विंग ने सैंकड़ों छात्राओं के साथ कॉलेज के एडमिन ब्लॉक में धरना दिया। छात्राओं की मांग है कि मेडिकल कॉलेज डीन अविलंब दोषी उप-प्राचार्य पर कार्यवाही करें। 

प्रदर्शन का नेतृत्व कर रहे एमपी एनएसयूआई मेडिकल विंग के संयोजक रवि परमार ने कहा कि, 'वर्तमान प्रभारी उप प्राचार्या का व्यवहार छात्राओं के प्रति बेहद पीडादायी हैं। आरोपी आए दिन छात्राओं के चरित्र संबंधित भद्दी टिप्पणी करती हैं। कई छात्राएं उपप्राचार्या द्वारा किए जा रहे मानसिक प्रताड़ना से मानसिक तनाव का शिकार हो रही है।'

यह भी पढ़ें: धार में दर्दनाक हादसा, पुल से नीचे गिरी यात्रियों से भरी बस, कम से कम 12 लोगों कि मौत

परमार ने इस मामले में सीएम शिवराज सिंह चौहान से तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की है। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि, '131 भांजियों ने शिकायत की है फिर मामाजी देर क्यों कर रहे हैं? जांच शुरू करने से पहले रजनी नायर को सस्पेंड क्यों नहीं किया गया? वाइस प्रिंसिपल रहते वह जांच को प्रभावित कर सकती हैं? यदि उन्हें जल्द से जल्द हटाया नहीं जाएगा तो एनएसयूआई पीड़ित छात्राओं के साथ सीएम हाउस का घेराव करेगी।'

प्रदर्शनकारी छात्राओं ने बताया कि जब उन्होंने इस मामले कि शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर की उसके बाद आरोपी प्रिंसिपल के खिलाफ कार्रवाई तो दूर उल्टा उन्हें ही डराया धमकाया जा रहा है। बता दें कि नर्सिंग कॉलेज कि 131 छात्राओं ने सीएम हेल्पलाइन पर वाइस प्रिंसिपल की शिकायत की है। उन्होंने आरोप लगाया कि रजनी नायर छात्राओं की बॉडी को लेकर भद्दे कमेंट करती हैं। साथ ही जातिसूचक शब्द बोलकर भी अपमानित करती हैं। शादीशुदा छात्राओं से कहती हैं कि तुमने एक नए स्टूडेंट की सीट खराब कर दी है।