लैंडिंग के पहले ही पंचर हुआ महाराज का विमान, सिंधिया का छिंदवाड़ा दौरा रद्द होने पर कांग्रेस का तंज

पीसीसी चीफ कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में हुंकार भरने वाले थे महाराज, अचानक बदला प्रोग्राम, के के मिश्रा ने दिया सुझाव, बोले- बेहतर होगा गुना में जाकर ही जन आशीर्वाद लें

Updated: Aug 14, 2021, 02:22 AM IST

लैंडिंग के पहले ही पंचर हुआ महाराज का विमान, सिंधिया का छिंदवाड़ा दौरा रद्द होने पर कांग्रेस का तंज

भोपाल। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रोग्राम में अचानक हुए बदलाव से मध्य प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। सिंधिया के इस निर्णय पर कांग्रेस ने चुटकी लेते हुए कहा है कि लैंडिंग से पहले ही महाराज का विमान पंचर हो गया है। 

दरअसल, कांग्रेस से पाला बदलकर बीजेपी में गए ज्योतिरादित्य सिंधिया 18 अगस्त को कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में हुंकार भरने वाले थे। करीब 13 साल बाद सिंधिया ने छिंदवाड़ा का रुख करने का प्लान बनाया था। इसके पहले उन्होंने साल 2008 विधानसभा चुनाव के दौरान छिंदवाड़ा में रैली किया था। लेकिन अब खबर है कि करीब एक महीने पहले से तय कार्यक्रम में सिंधिया ने बदलाव करते हुए छिंदवाड़ा नहीं जाने की योजना बनाई है।

यह भी पढ़ें: राष्ट्रगान पर दे रहे थे ज्ञान, पत्रकार ने पूछा रचयिता का नाम, बगलें झांकने लगे मध्य प्रदेश भाजयुमो के अध्यक्ष

कांग्रेस ने सिंधिया के इस फैसले पर करारा तंज कसा है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता के के मिश्रा ने कहा है कि लैंडिंग से पहले ही महाराज का विमान पंचर हो गया। इतना ही नहीं मिश्रा ने उन्हें सुझाव दिया है कि बेहतर यही होगा कि सिंधिया एक बार फिर गुना जाकर जन आशीर्वाद प्राप्त करें। 

उधर कांग्रेस के मीडिया कोऑर्डिनेटर नरेंद्र सलूजा ने सिंधिया को हरल्ले नेता करार देते हुए कहा कि वे अब पार्षद का भी चुनाव नहीं जीत सकते। सलूजा ने कहा है कि सिंधिया खुद जानते थे कि उनको छिंदवाड़ा की जनता से कैसा आशीर्वाद मिलने वाला है। इसीलिए उन्होंने प्लान बदल दिया।

यह भी पढ़ें: VVIP बनकर महाकाल के शरण में गए कैलाश विजयवर्गीय, पुजारियों को गेट पर रोका, रुकी रही भस्म आरती

दरअसल, कांग्रेस में रहते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर चंबल के अलावा मालवा तक ही सीमित थे। लेकिन केंद्र में मंत्री बनाने के बाद उन्होंने छिंदवाड़ा जाने की योजना बनाई थी। माना जा रहा है कि पार्टी ने छिंदवाड़ा में विरोध की आशंका देखते हुए उन्हें प्रोग्राम बदलने का निर्देश दे दिया। नए कार्यक्रम के मुताबिक, जन आशीर्वाद यात्रा के तहत 17 अगस्त को वे देवास और शाजापुर जाएंगे। वहीं 18 अगस्त को खरगोन और 19 को इंदौर जाने का कार्यक्रम है।