महापौर के एक टिकट के लिए अड़े सिंधिया, सीएम शिवराज से मिलने पहुंचे, नरेंद्र सिंह तोमर से तकरार

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ग्वालियर महापौर के टिकट के लिए हर हथकंडा अपना चुके पर बात बनती नहीं दिख रही, इसी बीच आज सुबह सिंधिया अचानक सीएम शिवराज के घर पहुंचे और अकेले में बातचीत की

Updated: Jun 12, 2022, 02:01 PM IST

महापौर के एक टिकट के लिए अड़े सिंधिया, सीएम शिवराज से मिलने पहुंचे, नरेंद्र सिंह तोमर से तकरार

भोपाल। मध्य प्रदेश बीजेपी में 16 महापौर प्रत्याशियों के चयन को लेकर घमासान थमता नहीं दिख रहा है। बीजेपी सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस से पाला बदलकर बीजेपी में आए सिंधिया एक टिकट के लिए अड़ गए हैं। सिंधिया रविवार सुबह अचानक सीएम शिवराज के आवास पर पहुंचे और अकेले में बातचीत की। बताया जा रहा है कि सिंधिया ने स्पष्ट कह दिया है कि ग्वालियर से उनका समर्थक ही चुनाव लड़ेगा।

रिपोर्ट्स के मुताबिक सिंधिया और सीएम शिवराज के बीच करीब 10 मिनट बातचीत हुई। इसके बाद दोनों नेता बीजेपी मुख्यालय में आयोजित कोर ग्रुप की बैठक में शामिल हुए। बीजेपी दफ्तर पहुंचे सिंधिया के चेहरे पर नाराजगी स्पष्ट दिख रही थी। जिससे साफ है कि एक महापौर की टिकट के लिए उन्हें यहां कितना पापड़ बेलना पड़ रहा है। बताया जा रहा है कि उन्हें दिल्ली जाना था लेकिन समर्थक का टिकट कट न जाए इसके लिए उन्होंने भोपाल में कैंप कर रखा है।

यह भी पढ़ें: महापौर चुनाव: BJP में टिकट के लिए घमासान, आधी रात तक चली कोर ग्रुप की बैठक, खत्म नहीं हुआ विवाद

दरअसल, सिंधिया जबतक कांग्रेस में थे तो ग्वालियर चंबल क्षेत्र का प्रत्याशी चयन अपने हिसाब से करते थे। लेकिन बीजेपी में उनकी एक नहीं चल रही है। सिंधिया चाहते हैं कि कम से कम एक टिकट उनके हिसाब से दी जाए, ताकि उनके समर्थकों में यह बात जाए कि अब भी उनका दबदबा बरकरार है।

टिकट को लेकर सिंधिया की तकरार केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से चल रही है। शनिवार रात जैसे ही सिंधिया कोर कमेटी के बैठक में पहुंचे तो तोमर उठकर चले गए। तोमर ग्वालियर से अपने कैंडिडेट को पार्टी की टिकट पर उतारना चाहते हैं। बताया जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष और संगठन भी तोमर के कैंडिडेट के पक्ष में ही है। उधर सिंधिया अड़ गए हैं कि किसी कीमत पर उन्हें टिकट चाहिए। ऐसे में अब देखना यह होगा कि प्रदेश नेतृत्व किस तरह दोनों नेताओं को साधती है। बात बिगड़ने की स्थिति में केंद्रीय नेतृत्व से भी चर्चा संभव है।